Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2024 · 1 min read

बहुत प्यार करती है वो सबसे

वह प्यार करती है सबसे
मतलब घर से ,पति से
बच्चों से ,सास ससुर से ।
ऐसी होती है गृहणी।
घर जिसका ऋणी होता है।
वो डाक्टर ,बाई , चौकीदार
नौकर ,शेफ सब कुछ बनती है
घर के लिए
बच्चों के लिए
प्यार की बात छोड़िए
वो तो चादर , सोफ़ा,पर्दा
और यहां तक हर दीवार से भी
प्यार करती है
उम्र भर निभाती भी है
अलग नहीं होना चाहती
घर से
बहुत प्यार करती है वो
अपने मायके में बूढ़े होते
मां बाप से
छिपा लेती है आंसू मुस्कान तले
ताज़ी चोट के निशानों को
महंगी साड़ी के पल्लू से
क्योंकि बहुत प्यार करती है वो।
बस खुद से ही प्यार करना भूल जाती है
दो घूंट प्यार की प्यासी
बहुत प्यार करती है वो सबसे

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
1 Like · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
59...
59...
sushil yadav
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
"चोट"
Dr. Kishan tandon kranti
हलमुखी छंद
हलमुखी छंद
Neelam Sharma
महोब्बत के नशे मे उन्हें हमने खुदा कह डाला
महोब्बत के नशे मे उन्हें हमने खुदा कह डाला
शेखर सिंह
प्रीत
प्रीत
Mahesh Tiwari 'Ayan'
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
Shinde Poonam
नर नारायण
नर नारायण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
भाईचारा
भाईचारा
Mukta Rashmi
*दया करो हे नाथ हमें, मन निरभिमान का वर देना 【भक्ति-गीत】*
*दया करो हे नाथ हमें, मन निरभिमान का वर देना 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
ती सध्या काय करते
ती सध्या काय करते
Mandar Gangal
"मिलते है एक अजनबी बनकर"
Lohit Tamta
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
संजय कुमार संजू
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
नग मंजुल मन भावे
नग मंजुल मन भावे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
''नवाबी
''नवाबी" बुरी नहीं। बशर्ते अपने बलबूते "पुरुषार्थ" के साथ की
*प्रणय प्रभात*
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
प्रेम की नाव
प्रेम की नाव
Dr.Priya Soni Khare
3067.*पूर्णिका*
3067.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
Neeraj Agarwal
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
आक्रोष
आक्रोष
Aman Sinha
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
बस अणु भर मैं
बस अणु भर मैं
Atul "Krishn"
Loading...