Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2016 · 1 min read

बहुत दिन बाद मैं अपने शहर से गाँव आया हूँ ।

? शुभ संध्या ?
? प्रिय मित्रों ?
सहित्यपेडिया में आकर ऐसा लगा जैसे……
??????????????????
बहुत दिन बाद मैं अपने , शहर से गाँव आया हूँ ।

जन्मभूमि यही मेरी , मैं छूने पाँव आया हूँ ।

यहाँ पर माँ की यादें हैं , यहीं बचपन मेरा गुजरा,

पुराना है अभी बरगद , उसी की छाँव आया हूँ ।
??????????????????

? वीर पटेल ?

Language: Hindi
Tag: कविता
3 Comments · 383 Views
You may also like:
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
मिट्टी को छोड़कर जाने लगा है
कवि दीपक बवेजा
निरक्षता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
माँ की यादें...
मनोज कर्ण
नवनिर्माण करें राष्ट्र का, करें श्रेष्ठ अपना अर्पण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
Ravi Prakash
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
इंसाफ़ मिलेगा क्या?
Shekhar Chandra Mitra
सच्चा आनंद
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
तकनीकी के अग्रदूत राजीव गांधी का शिक्षा के प्रति दृष्टिकोण
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
दिवाली शुभ होवे
Vindhya Prakash Mishra
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
करवा चौथ
VINOD KUMAR CHAUHAN
शरद पूर्णिमा
अभिनव अदम्य
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐परिवारे मातु: च भागिन्या: च धर्म:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
★HAPPY GANESH CHATURTHI★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
दुःख के संसार में
Buddha Prakash
अगर तू नही है जीवन में ये अधखिला रह जाएगा
Ram Krishan Rastogi
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
गणपति स्वागत है
Dr. Sunita Singh
✍️कुछ ख्वाइशें और एक ख़्वाब...
'अशांत' शेखर
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
लोधी क्षत्रिय वंश
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
इश्क एक बिमारी है तो दवाई क्यू नही
Anurag pandey
बाल कहानी- प्यारे चाचा
SHAMA PARVEEN
अपने इश्क को।
Taj Mohammad
Loading...