Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2016 · 1 min read

बहुत दिन बाद मैं अपने शहर से गाँव आया हूँ ।

? शुभ संध्या ?
? प्रिय मित्रों ?
सहित्यपेडिया में आकर ऐसा लगा जैसे……
??????????????????
बहुत दिन बाद मैं अपने , शहर से गाँव आया हूँ ।

जन्मभूमि यही मेरी , मैं छूने पाँव आया हूँ ।

यहाँ पर माँ की यादें हैं , यहीं बचपन मेरा गुजरा,

पुराना है अभी बरगद , उसी की छाँव आया हूँ ।
??????????????????

? वीर पटेल ?

Language: Hindi
3 Comments · 581 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3192.*पूर्णिका*
3192.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
गुरूता बने महान ......!
गुरूता बने महान ......!
हरवंश हृदय
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
की तरह
की तरह
Neelam Sharma
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
manjula chauhan
"अपने ही इस देश में,
*Author प्रणय प्रभात*
छल
छल
गौरव बाबा
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
VINOD CHAUHAN
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आप दिलकश जो है
आप दिलकश जो है
gurudeenverma198
क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड
Sandeep Pande
वेदनामृत
वेदनामृत
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
"चिन्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Urmil Suman(श्री)
किसी को फर्क भी नही पड़ता
किसी को फर्क भी नही पड़ता
पूर्वार्थ
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हमसफर
हमसफर
लक्ष्मी सिंह
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अधूरी प्रीत से....
अधूरी प्रीत से....
sushil sarna
Loading...