Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

बहाना मिल जाए

❣️मेरी सूनी रातों को सहारा मिल जाए ,
मेरे काले आसमान को रौशन सितारा मिल जाए ।
यूं तो हम ही तलाशते रहते हैं आपसे मिलने के मौक़े ,
काश कि कभी आपको भी हमसे मिलने का कोई बहाना मिल जाए ।।❤️

✍️सृष्टि बंसल

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
मजबूरी
मजबूरी
The_dk_poetry
भोले
भोले
manjula chauhan
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
कांटें हों कैक्टस  के
कांटें हों कैक्टस के
Atul "Krishn"
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
2362.पूर्णिका
2362.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
विजय कुमार नामदेव
उम्रें गुज़र गयी है।
उम्रें गुज़र गयी है।
Taj Mohammad
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
Pramila sultan
*दुनिया से जब जाऊँ तो क्या, छोड़ूँ क्या ले जाऊँ( हिंदी गजल/गी
*दुनिया से जब जाऊँ तो क्या, छोड़ूँ क्या ले जाऊँ( हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
ruby kumari
मै थक गया हु
मै थक गया हु
भरत कुमार सोलंकी
दोदोस्ती,प्यार और धोखा का संबंध
दोदोस्ती,प्यार और धोखा का संबंध
रुपेश कुमार
सच्चा मन का मीत वो,
सच्चा मन का मीत वो,
sushil sarna
व्यर्थ विवाद की
व्यर्थ विवाद की
*Author प्रणय प्रभात*
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किताब कहीं खो गया
किताब कहीं खो गया
Shweta Soni
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
.......,,
.......,,
शेखर सिंह
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
नहीं हूं...
नहीं हूं...
Srishty Bansal
आखिर कब तक?
आखिर कब तक?
Pratibha Pandey
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मूडी सावन
मूडी सावन
Sandeep Pande
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
शहीद रामफल मंडल गाथा।
शहीद रामफल मंडल गाथा।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...