Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2023 · 1 min read

*बहस का अर्थ केवल यह, बहस करिए विचारों से 【मुक्तक】*

बहस का अर्थ केवल यह, बहस करिए विचारों से 【मुक्तक】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
बहस का अर्थ केवल यह, बहस करिए विचारों से
बहस में व्यंग्य हो जब भी, उपस्थित हो इशारों से
बहस में शुद्ध मन का भाव, आ जाए तो क्या कहने
बहस बदनाम होती है, निजी कटुता के वारों से
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हो नजरों में हया नहीं,
हो नजरों में हया नहीं,
Sanjay ' शून्य'
सजे थाल में सौ-सौ दीपक, जगमग-जगमग करते (मुक्तक)
सजे थाल में सौ-सौ दीपक, जगमग-जगमग करते (मुक्तक)
Ravi Prakash
महंगाई का दंश
महंगाई का दंश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऐसा लगता है कि
ऐसा लगता है कि
*Author प्रणय प्रभात*
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
फूल सी तुम हो
फूल सी तुम हो
Bodhisatva kastooriya
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
👣चरण, 🦶पग,पांव🦵 पंजा 🐾
👣चरण, 🦶पग,पांव🦵 पंजा 🐾
डॉ० रोहित कौशिक
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
नेता बनि के आवे मच्छर
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
मंज़िल को पाने के लिए साथ
मंज़िल को पाने के लिए साथ
DrLakshman Jha Parimal
2646.पूर्णिका
2646.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"लू"
Dr. Kishan tandon kranti
Banaras
Banaras
Sahil Ahmad
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
डॉ. दीपक मेवाती
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
अहंकार
अहंकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शीर्षक - संगीत
शीर्षक - संगीत
Neeraj Agarwal
उस रावण को मारो ना
उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
संघर्षों के राहों में हम
संघर्षों के राहों में हम
कवि दीपक बवेजा
प्रेम का अंधा उड़ान✍️✍️
प्रेम का अंधा उड़ान✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
दोहे
दोहे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...