Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 3, 2022 · 1 min read

बहते हुए लहरों पे

बहते हुए लहरों पे उसका नाम लिख आया हूं
उसे भूल जाने का एक नया तरकीब सीख आया हूं।।

कह दो उसे,अब ओ बेफिक्र होकर आएं-जाएं मेरे गलियों से
क्योंकि बिंदास होकर जीना उसके बेगैर सीख आया हूं।।

जब तक दिल टूटा ना था तब तक इश्क में था
अब हर चेहरा पढ़ने का कलां सीख आया हूं।।
नीतू साह
हुसेना बंगरा, सीवान-बिहार

3 Likes · 3 Comments · 90 Views
You may also like:
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
मेरा बचपन
Ankita Patel
*चाची जी श्रीमती लक्ष्मी देवी : स्मृति*
Ravi Prakash
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
बदलती दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
गज़ल
Saraswati Bajpai
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
उम्मीद पर है जिन्दगी
Anamika Singh
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
💐 हे तात नमन है तुमको 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भगत सिंह का प्यार था देश
Anamika Singh
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
"अशांत" शेखर
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️दिव्याची महत्ती...!✍️
"अशांत" शेखर
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
पिता
Rajiv Vishal
आ तुझको तुझ से चुरा लू
Ram Krishan Rastogi
Loading...