Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

बस मुझे महसूस करे

##दिनांक:-14/10/2023
#शीर्षक:- बस मुझे महसूस करे

भाग:- (2)

विशेष नहीं विशिष्ट चाहिए ,
प्रतिभावान पाना चाहती हूँ।
एक कसक जो अधूरी रह गई,
इश्क के धागे में उसे पिरोना चाहती हूँ।
नहीं पीछा करना,
ना हीं प्रेम में पड़ना ,
क्योकि ये वाला हिस्सा,
बिना गम के मैं जीना चाहती हूँ।
मन खुले जिसके साथ,
खुलकर हँस सके,
ऐसा किसी के साथ होना चाहती हूँ।
दर्पण को नहीं ,
मेरे दिल को देखे,
बिन बोले सब कुछ समझ ले ,
ऐसा कोई अजीज पाना चाहती हूँ
ना करे मिन्नतें,
मिलने मिलाने का,
बस मुझे महसूस करे,
ऐसे गुमनाम का नाम जानना चाहती हूँ….|

रचना मौलिक, अप्रकाशित, स्वरचित और सर्वाधिक सुरक्षित है|

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
लेखक कौन ?
लेखक कौन ?
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
अपना जीवन पराया जीवन
अपना जीवन पराया जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
2814. *पूर्णिका*
2814. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ मेरे संस्मरण
■ मेरे संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
💐प्रेम कौतुक-469💐
💐प्रेम कौतुक-469💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"असम्भव"
Dr. Kishan tandon kranti
जो कुछ भी है आज है,
जो कुछ भी है आज है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर कभी ना माने
हर कभी ना माने
Dinesh Gupta
Tajposhi ki rasam  ho rhi hai
Tajposhi ki rasam ho rhi hai
Sakshi Tripathi
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
मन में रख विश्वास,
मन में रख विश्वास,
Anant Yadav
अर्थ का अनर्थ
अर्थ का अनर्थ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
गुलाब के काॅंटे
गुलाब के काॅंटे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
कवि दीपक बवेजा
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
Aadarsh Dubey
"साजन लगा ना गुलाल"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
छात्रों का विरोध स्वर
छात्रों का विरोध स्वर
Rj Anand Prajapati
पिता है तो लगता परिवार है
पिता है तो लगता परिवार है
Ram Krishan Rastogi
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
Loading...