Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2024 · 1 min read

बस अणु भर मैं बस एक अणु भर

बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
पहचान है हमारी

एक अणु ख़ुश्बू हूँ, एक झोंका हवा का
बारिश की पहली
एक बूँद हूँ

धुँये का छल्ला हूँ, ठहरे पानी में तैरता
एक अक्श हूँ
बस कै़द करने की कोशिश
और सब तार तार

हवा में विलीन, एक अणु याद हूँ
सीनें की सीप में
छिपाया तो मोती हूँ

बस यही एक अणु, है पहचान हमारी
उलाहने की पेटी में
विष हूँ

अधरों पर जो रखा नाम
यादों के हर पल का
अमृत हूँ

~ अतुल “कृष्ण”

60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पिला रही हो दूध क्यों,
पिला रही हो दूध क्यों,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
कवि रमेशराज
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सर्वंश दानी
सर्वंश दानी
Satish Srijan
*सत्संग शिरोमणि रवींद्र भूषण गर्ग*
*सत्संग शिरोमणि रवींद्र भूषण गर्ग*
Ravi Prakash
3167.*पूर्णिका*
3167.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
DrLakshman Jha Parimal
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
Surya Barman
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
shabina. Naaz
सफल सारथी  अश्व की,
सफल सारथी अश्व की,
sushil sarna
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
VINOD CHAUHAN
*जन्म या बचपन में दाई मां या दाया,या माता पिता की छत्र छाया
*जन्म या बचपन में दाई मां या दाया,या माता पिता की छत्र छाया
Shashi kala vyas
देखिए
देखिए "औरत चाहना" और "औरत को चाहना"
शेखर सिंह
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
Dr Manju Saini
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरी इबादत
मेरी इबादत
umesh mehra
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
*हीरे को परखना है,*
*हीरे को परखना है,*
नेताम आर सी
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*Author प्रणय प्रभात*
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
Phool gufran
"ला-ईलाज"
Dr. Kishan tandon kranti
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
कवि दीपक बवेजा
जीभ
जीभ
विजय कुमार अग्रवाल
बहुत प्यार करती है वो सबसे
बहुत प्यार करती है वो सबसे
Surinder blackpen
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
gurudeenverma198
Loading...