Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2023 · 1 min read

बलात्कार

दुष्कर्म किसे कहते हैं सब दुराचार क्या होता पापा?
नन्ही बिटिया पूछ रही है बलात्कार क्या होता पापा?

दुराचार है काम दुष्ट का कोशिश की समझाने की।
कोमल मन के कठिन प्रश्न का उत्तर उसे बताने की।
फिर से बिटिया पूछ रही है दुराचार क्या होता पापा?
नन्ही बिटिया पूछ रही है बलात्कार क्या होता पापा?

होता पतन है मानवता का अंदर का मानव मर जाता।
व्यभिचारी बन जाता है वह बुरे काम सब कर जाता।
फिर से बिटिया पूछ रही है व्यभिचार क्या होता पापा?
नन्ही बिटिया पूछ रही है बलात्कार क्या होता पापा?

अत्याचार करे नारी पर नोचे और खसोटे उसको।
चीख पे उसकी आनंदित हो जैसे चाहे लूटे उसको।
फिर से बिटिया पूछ रही है अत्याचार क्या होता पापा?
नन्ही बिटिया पूछ रही है बलात्कार क्या होता पापा?

हो जाता नाश है नैतिकता का सदाचार खो जाता है।
तब मानवता का निश्चित बिटिया बलात्कार हो जाता है।
फिर से बिटिया पूछ रही है सदाचार क्या होता पापा?
नन्ही बिटिया पूछ रही है बलात्कार क्या होता पापा?

मस्तिष्क हो गया शून्य मेरा अब कैसे उसको समझाऊँ।
उसके कठिन प्रश्नों का मैं कैसे उत्तर दे पाऊँ।
बिटिया बोली अब न पूँछू दुराचार क्या होता पापा?
कुछ कुछ समझ रही हूँ मैं बलात्कार क्या होता पापा?

कुछ देर रही वह मुझे देखती उत्तर की प्रतीक्षा में।
मेरे गले लिपट कर बोली मैं हूँ आप की रक्षा में।
नही जानना मुझको है अत्याचार क्या होता पापा?
कुछ कुछ समझ रही हूँ मैं बलात्कार क्या होता पापा?
– रमाकान्त चौधरी

263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Sakshi Tripathi
🚩यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
🚩यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बचपन याद किसे ना आती ?
बचपन याद किसे ना आती ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
Ram Krishan Rastogi
गुरु और गुरू में अंतर
गुरु और गुरू में अंतर
Subhash Singhai
चंपई  (कुंडलिया)
चंपई (कुंडलिया)
Ravi Prakash
== करो मनमर्जी अपनी ==
== करो मनमर्जी अपनी ==
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
कुछ बात करो, कुछ बात करो
कुछ बात करो, कुछ बात करो
Shyam Sundar Subramanian
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
घंटा हिलाने वाली कौमें
घंटा हिलाने वाली कौमें
Shekhar Chandra Mitra
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
सेंटा क्लॉज
सेंटा क्लॉज
Surinder blackpen
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
कवि रमेशराज
भोली बाला
भोली बाला
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
रक्षाबंधन का त्योहार
रक्षाबंधन का त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दीप की अभिलाषा।
दीप की अभिलाषा।
Kuldeep mishra (KD)
नींद आए तो सोना नहीं है
नींद आए तो सोना नहीं है
कवि दीपक बवेजा
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
Satish Srijan
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
आर.एस. 'प्रीतम'
बहुत बातूनी है तू।
बहुत बातूनी है तू।
Buddha Prakash
ग़रीबों को फ़क़त उपदेश की घुट्टी पिलाते हो
ग़रीबों को फ़क़त उपदेश की घुट्टी पिलाते हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अंकित के हल्के प्रयोग
अंकित के हल्के प्रयोग
Ms.Ankit Halke jha
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
निगाहें
निगाहें
जय लगन कुमार हैप्पी
2549.पूर्णिका
2549.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...