Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2016 · 1 min read

बलात्कार पीड़िता का दर्द

उन दरिंदों ने तो सिर्फ एक बार मेरा बलात्कार किया था,
पर समाज ने, मीडिया ने, कानून ने तो बार बार किया था।

जब से लोगों को पता चला कि मैं बलात्कार की पीड़िता हूँ,
तब से हर एक नजर ने मेरी इज्जत को तार तार किया था।

दरिंदों के बाद बलात्कार की शुरुआत हुई थी पुलिस थाने में,
घायल हो चुकी आत्मा पर बेहूदे सवाल से प्रहार किया था।

पुलिस थाने से निकली तो मीडिया ने लहूलुहान कर दिया,
बस हाथ जोड़कर मैंने अपनी बेबसी का इजहार किया था।

अदालत में वकीलों की जिरह ने मुझे छलनी ही कर दिया,
चुभते सवालों और बातों के तीर से मुझ पर वार किया था।

घर वाले इस दुःख में साथ खड़े जरूर थे पर टूट चुके थे,
मेरे साथ हुए हादसे ने घर वालों को बना लाचार दिया था।

ये समाज वाले दबी जुबान में मुझे ही दोषी ठहरा रहे थे,
मेरे मरने से सब ठीक हो जायेगा फिर मैंने विचार किया था।

इज्जत से जीने तो ये समाज वैसे भी नहीं देता मुझे यहाँ,
इसीलिए मैंने फाँसी के फंदे को अपने गले का हार किया था।

सुलक्षणा इज्जत से जी सकें मेरे जैसी ऐसा समाज बनाओ,
हकीकत यही है मुझे इस समाज की बेरूखी ने मार दिया था।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 614 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ सुलक्षणा अहलावत
View all
You may also like:
मणिपुर कौन बचाए..??
मणिपुर कौन बचाए..??
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
कुछ पल
कुछ पल
Mahender Singh Manu
पढ़ना सीखो, बेटी
पढ़ना सीखो, बेटी
Shekhar Chandra Mitra
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
Manisha Manjari
बचा  सको तो  बचा  लो किरदारे..इंसा को....
बचा सको तो बचा लो किरदारे..इंसा को....
shabina. Naaz
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*Author प्रणय प्रभात*
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
आहट
आहट
Er. Sanjay Shrivastava
क्या ग़लत मैंने किया
क्या ग़लत मैंने किया
Surinder blackpen
पापा की परी
पापा की परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-405💐
💐प्रेम कौतुक-405💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
" आशिकी "
Dr. Kishan tandon kranti
हर क़दम पर सराब है सचमुच
हर क़दम पर सराब है सचमुच
Sarfaraz Ahmed Aasee
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
DrLakshman Jha Parimal
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रंगों  में   यूँ  प्रेम   को   ऐसे   डालो   यार ।
रंगों में यूँ प्रेम को ऐसे डालो यार ।
Vijay kumar Pandey
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
पूर्वार्थ
2271.
2271.
Dr.Khedu Bharti
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
शिखर के शीर्ष पर
शिखर के शीर्ष पर
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
Loading...