Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2021 · 3 min read

बरसात

1) गीत

शुन्य हृदय में प्रेम की,गहन जलद बरसात।
गहन अँधेरा कर गयी, पावस की यह रात।।

झुलस रही हूँ अग्नि-सी, बढ़ा दिया संताप।
मुझ विरहण को यूँ लगे, दिया किसी ने श्राप।।
शोक-गीत गाने लगे, जुगनू एक जमात।
गहन अँधेरा कर गयी, पावस की यह रात।।

घिरी याद की बदलियाँ, नस-नस बढ़ती पीर।
नवल मेघ जल बिन्दु से, नयन भरे हैं नीर।
छेड़े बिजुरी को कभी, करे घटा से बात।
गहन अँधेरा कर गयी, पावस की यह रात।।

रोम-रोम बेसुध पड़ा,अंतस भर कर शोर।
कठिन प्रलय की रात यह, कैसे होगी भोर।।
चाँद सितारे छुप गये, सिसक रहे जज्बात ।
गहन अँधेरा कर गयी, पावस की यह रात।।

शुन्य हृदय में प्रेम की,गहन जलद बरसात।
गहन अँधेरा कर गयी, पावस की यह रात।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

2) दोहा

छम-छम बारिश ने किया, पावस का आगाज।
हवा सुहानी बह रही, झूम रहे वनराज।। १

वर्षा आई झूम कर, प्रकृति भाव विभोर।
बूँद-बूँद जादू भरा, मौसम है चितचोर।। २

वर्षा की हर बूँद में, सुन्दर सुखद मिठास।
आज सखी पूरी हुई, मेरे मन की आस।। ३

वर्षा रानी आ गई, कर सोलह श्रृंगार।
उसके आने से मगन,ये पूरा संसार।। ४

वर्षा की ध्वनि हृदय में ,भर देती है प्रीत।
प्रणयातुर शत कीट खग, गाते मंगल गीत।। ५

नीले अम्बर में घटा,जब छाई घनधोर।
पंख खोलकर नाचता, तब जंगल में मोर।।६

खुश होती बरसात जब,करें कई उपकार।
क्रोधित हो जाये अगर, करती सब संहार।। ७

कहो सखी किससे कहें, अपने मन की पीर।
पिया बिना बरसात में, बहे नयन से नीर।। ८

मेध बहुत मन के गगन, मगन मयूरी नाच।
दर्द दबा कर कंठ में,सह पीड़ा की आँच।। ९

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

3) मुक्तक

टपकता रहता घर जिसका टूटा फूटा छप्पर है।
फिर भी ‘बारिश हो जाये’ ध्यान लगाये नभ पर है।
वो खेतों की मेड़ों पर उदास अकेला बैठा है –
इस बार बरस जाना मेघा कर्जा मेरे सर पर है।1

कृषक जनों की सुनकर पुकार।
बरसो मेघा मूसलाधार।
जूझ रहे हैं वो कमियों से –
जीवन में छाया अंधकार।2

वर्षा रानी को देख कर खुश हो रहा किसान।
मन में उसके सज गये आज हजारों अरमान।
गुनगुनाता गीत गाता काधे पर हल लेकर-
चल दिया वह भींगता खेतों में रोपने धान।3

उमड़-घुमड़ कर छम-छम करती पावस सुख बरसाने आई ।
पंक्ति बद्ध हो कमर झुकाए करें नारियाँ धान रुपाई ।
श्रम सुन्दरियाँ तन्मयता से हाथ लिए नन्हें बिरवा को-
अद्भुत लय में गायन करती वसुन्धरा की गोद सजाई ।4

श्वेत शीतल, निर्मल बूँदों की बरखा पहनी चुनर है।
बिजली की पायल पहने बरखा लगती अति सुन्दर है।
श्यामल, उज्ज्वल, कोमल,लहराता सुरभित केश गगन में –
इस आकर्षित प्यारी छवि पर मोहित सब नारी नर है।5
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

4)
Post
? ? & & ? ?
छम-छम बदरा बरस रहा है।
विरहन मन ये तरस रहा है।

शीतल पवन चले आरी-सी,
बूंद-बूंद फिर विहस रहा है।

आग कलेजे में धधकी यूं,
नस-नस मद में लनस रहा है।

गाज गिरे ऐसे मौसम पर,
झरी नेह की परस रहा है।

कैसे धीर धरूँ साजन जी,
दर्द भरा जब दिवस रहा है।

सुध-बुध खो देती है मेरी,
तुम बिन जीवन निरस रहा है।

एक दूजे के चिर प्रेम में,
लीन प्रिये दिन सरस रहा है।
लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

8 Likes · 8 Comments · 304 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
नूरफातिमा खातून नूरी
करूँ प्रकट आभार।
करूँ प्रकट आभार।
Anil Mishra Prahari
जिस समय से हमारा मन,
जिस समय से हमारा मन,
नेताम आर सी
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Anu dubey
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गजब है उनकी सादगी
गजब है उनकी सादगी
sushil sarna
23/73.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/73.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"तिकड़मी दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
मैं पागल नहीं कि
मैं पागल नहीं कि
gurudeenverma198
सिर्फ तुम
सिर्फ तुम
Arti Bhadauria
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
*पुस्तक*
*पुस्तक*
Dr. Priya Gupta
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
... बीते लम्हे
... बीते लम्हे
Naushaba Suriya
अमीरों का देश
अमीरों का देश
Ram Babu Mandal
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
Dr. Upasana Pandey
दोस्त न बन सकी
दोस्त न बन सकी
Satish Srijan
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
*समय की रेत ने पद-चिन्ह, कब किसके टिकाए हैं (हिंदी गजल)*
*समय की रेत ने पद-चिन्ह, कब किसके टिकाए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
"आँगन की तुलसी"
Ekta chitrangini
Loading...