Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

बरगद और बुजुर्ग

बरगद और बुजुर्ग

बहुत जरूरी घर में बरगद और बुजुर्ग
आओ करें हम सब इन्हें हाथ जोड़कर प्रणाम।
नि:शब्द उपस्थित का सदा अहसास दिलाते
हम हरदम करें इनका सम्मान।
ये हमारी अनमोल विरासत हैं
आओ, हम इनका करें संरक्षण।
मकान को ये ही घर बनाते हैं
आओ, हम सब करें इनका अभिनंदन।
बरगद की छाँव बुजुर्गों की ठाँव
पवित्र नहीं किसी भी मंदिर से ये कम।
इनकी सेवा ही दायित्व हमारा
जिसे करना है हमें सदैव पूरा।
बहुत जरूरी घर में बरगद और बुजुर्ग
आओ करें हम सब इन्हें हाथ जोड़कर प्रणाम।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर छत्तीसगढ़

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"रोटी और कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
मिले तो हम उनसे पहली बार
मिले तो हम उनसे पहली बार
DrLakshman Jha Parimal
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
bharat gehlot
* धन्य अयोध्याधाम है *
* धन्य अयोध्याधाम है *
surenderpal vaidya
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
मां कात्यायनी
मां कात्यायनी
Mukesh Kumar Sonkar
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
ruby kumari
बिछड़ जाता है
बिछड़ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
पहचान
पहचान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
"कौन अपने कौन पराये"
Yogendra Chaturwedi
मिट्टी
मिट्टी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2670.*पूर्णिका*
2670.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तुम ढाल हो मेरी
तुम ढाल हो मेरी
गुप्तरत्न
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
Sonu sugandh
■ #ग़ज़ल / #कर_ले
■ #ग़ज़ल / #कर_ले
*Author प्रणय प्रभात*
कैसे कह दूं
कैसे कह दूं
Satish Srijan
"स्वप्न".........
Kailash singh
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
Loading...