Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 3 min read

बयाँ-ए-कश्मीर

मैंने कहा कि धरती की है स्वर्ग ये जगह
उसने कहा की अब तुम्हारी बात बेवजह
सुनता जरूर हूँ कि थी ये खुशियों की ज़मीं
धन धान्य से थी पूर्ण , नहीं कुछ भी थी कमीं
हिम चोटियां ही रचती इसका खुद सिंगार है
बसता कही है गर यहीं परवर दिगार है
झीलों की श्रृंखलाएँ यहाँ मन है मोहती
हरियाली यहाँ आके अपना नूर खोलती
केसर की क्यारियां थीं , पंक्तिया गुलाब की
कुछ बात ही जुदा थी इसके शबाब की
लेकिन जो मैंने देखा है मजबूर हो गया
गम-दर्द-आह-अश्क से हूँ चूर हो गया
तुम ये समझ रहे हो मुझे कुछ गुमाँ नहीं
तुमने न देखा खून , आग और धुआं नहीं
तुमने फ़कत सजाई है तस्वीर ही इसकी
तुमने पढ़ी किताबों में तहरीर है इसकी
सुनो आज कह रहें हैं मेरे अश्क दास्ताँ
इंसानियत, ईमान का है तुमको वास्ता
मैं दूध पी सका न कभी माँ के प्यार का
नहीं याद मुझको वक़्त है बचपन बहार का
माँ ने कभी लगाया नहीं मुझको डिठौना
गीला हुआ तो बदला नहीं मेरा बिछौना
होती है चीज़ ममता क्या , ये जान ना सका
मैं माँ की गोद भी तो पहचान ना सका
मैं ना हुमक सका कभी माता की गोद में
ना उसको देख पाया कभी स्नेह, क्रोध में
कभी बाप की ऊँगली पकड़ के चल न पाया मैं
और मुट्ठियों में उसकी मूंछ भर न पाया मैं
उससे न कर सका मैं जिद मिठाई के लिए
आँगन में लोट पाया न ढिठाई के लिए
राखी के लिए सूनी रही हैं कलाइयां
हैं गूंजती जेहन में बहन की रुलाइयाँ
दिन और महीना याद है न साल ही मुझे
जिस दम कि मेरी जिंदगी के सब दिए बुझे
कहते हैं लोग आग की लपट था मेरा घर
और गोलिया आतंक की ढाने लगी कहर
फिर कुछ नहीं बाकि बचा मेरे लिए यहाँ
कहती हैं किताबें की बसता स्वर्ग है यहाँ
कापी , कलम, किताब मदरसे नहीं देखे
कहते किसे ख़ुशी हैं वो जलसे नहीं देखे
लाशों को ढोकर कांधे पे है गिनतियाँ सीखी
विद्या के नाम शमशां सजाना चिता सीखी
अब बोलो तुम्ही इसके बाद क्या है ज़िन्दगी?
हम सर कहाँ झुकाएं करें किसकी बंदगी
इक आस की किरण हैं तो जवान फ़ौज के
है जिनकी बदौलत कि हिन्दुस्तान मौज से
उनकी ही बदौलत यहाँ आ सकती है अमन
उनके सिवा न कोई बसाएगा ये चमन
उनके भी हाथ बांधती है रोज हूकूमत
गर है कोई गिला तो अफ़सोस हूकूमत
हर रोज यहाँ बेगुनाह मारे जा रहे
पर जाने कैसे सोचती है सोच हूकूमत
जाकर कहो उनसे कि सियासत न अब करें
आखिर, कितना, कोई कैसे सब्र अब धरे
कश्मीर में बहती है रोज खून की नदी
है जिससे दागदार एक पूरी ही सदी
है जल चूका चरार-ए-शरीफ यहाँ पर
हैं हजरत बल में खून के धब्बे मीनार पर
दहशत का है गवाह , मंदिर रघुनाथ का
और अब तो पृष्ठ जुड़ गया है अक्षर धाम का
कश्मीर की विधान सभा , दिल्ली की संसद
आतंक इनका धर्म है इनका यही मकसद
आखिर कब तलक हम यहाँ सब्र ढोयेंगे
हम जाके किसकी किसकी कहो कब्र रोयेंगे
बन्दुक , गोली , खून ये इस्लाम नहीं है
कुरआन औ हज़रत का ये पैगाम नहीं है
दिल्ली से कहो जंग का ऐलान अब करे
दहशत को मिटा देने का ऐलान अब करे
दे फ़ौज को आदेश अब दहशत मिटाने का
आएगा फिर से वक़्त न मातम मनाने का
दुनिया में जब तलक ये पाकिस्तान रहेगा
आतंक से घायल ये हिंदुस्तान रहेगा
आतंक समझता नहीं है हर्फ़े मोहब्बत
इंसानियत को दाग देता, देता है तोहमत
बन्दुक की गोली को नहीं फूल चाहिए
मक्कारों के न सामने उसूल चाहिए
…….रविन्द्र श्रीवास्तव”बेजुबान”…….

1 Comment · 555 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
- मर चुकी इंसानियत -
- मर चुकी इंसानियत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
रही सोच जिसकी
रही सोच जिसकी
Dr fauzia Naseem shad
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
2466.पूर्णिका
2466.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
उत्कर्षता
उत्कर्षता
अंजनीत निज्जर
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पूर्वार्थ
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
Neelam Sharma
आओ कृष्णा !
आओ कृष्णा !
Om Prakash Nautiyal
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Kabhi kabhi har baat se fark padhta hai mujhe
Kabhi kabhi har baat se fark padhta hai mujhe
Roshni Prajapati
*कृष्ण की दीवानी*
*कृष्ण की दीवानी*
Shashi kala vyas
*मिलाओ एक टेलीफोन, तो झगड़ा निपट जाए (मुक्तक)*
*मिलाओ एक टेलीफोन, तो झगड़ा निपट जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla 781
विकृत संस्कार पनपती बीज
विकृत संस्कार पनपती बीज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
SPK Sachin Lodhi
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
डॉ० रोहित कौशिक
Impossible means :-- I'm possible
Impossible means :-- I'm possible
Naresh Kumar Jangir
माँ की यादें...
माँ की यादें...
मनोज कर्ण
क़ुसूरवार
क़ुसूरवार
Shyam Sundar Subramanian
Loading...