Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

बम

बम

बम तो बम होता है
निर्जीव व अचेतन
उसे क्या पता कि
वह चीज क्या है ?
बनाने वाले को चलाने वाले को तो
पता होता है कि यह किसी से
उसका पिता, सुहाग भाई, बहन
बेटा, बेटी या मित्र छीनकर
उनकी दुनिया उजाड़ सकता है।
उर्वरा जमीन बंजर बना सकता है।
वातावरण जहरीला बना सकता है।
फिर क्यों बनाते हैं बम ?
क्यों चलाते हैं बम ?
मैं पूछता हूँ उन वैज्ञानिकों से
क्यों बनाते हैं वे रिमोट चलित बम ?
क्यों नहीं बनाते हैं वे रिमोट चलित हल ?
मैं पूछता हूँ बम चलाने वालों से
क्यों नहीं वे खेतों में हल चलाते हैं।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
सोनू की चतुराई
सोनू की चतुराई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
दोहे- दास
दोहे- दास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
Ravi Prakash
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
मेरा फलसफा
मेरा फलसफा
umesh mehra
मुझे तरक्की की तरफ मुड़ने दो,
मुझे तरक्की की तरफ मुड़ने दो,
Satish Srijan
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
Rj Anand Prajapati
काट  रहे  सब  पेड़   नहीं  यह, सोच  रहे  परिणाम भयावह।
काट रहे सब पेड़ नहीं यह, सोच रहे परिणाम भयावह।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
VINOD CHAUHAN
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
मैं प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
Anil chobisa
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कवि दीपक बवेजा
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
Subhash Singhai
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
sushil sarna
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
पूर्वार्थ
क्यों बनना गांधारी?
क्यों बनना गांधारी?
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-523💐
💐प्रेम कौतुक-523💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
ग़म-ए-जानां से ग़म-ए-दौरां तक
Shekhar Chandra Mitra
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
gurudeenverma198
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी  !
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी !
DrLakshman Jha Parimal
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...