Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने

बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने।
सीखा दिया हमको जीना, जिंदगी की राहों ने।।
बना दिया हमको ऐसा———————-।।

कभी तुम जैसे थे हम भी, मस्त बेखबर।
ना कोई गम था हमें, हमारी भी थी सहर।।
बुझ गई फिर वह शमा, लग गई किसकी नजर।
बना दिया हमको ऐसा———————-।।

साथ में थे अपने भी, साथ ही जीते थे हम।
पूछते थे हाल सबका, साथ बहुत हँसते थे हम।।
अब उनका घर अलग है, दूर उनसे हैं बहुत हम।
बना दिया हमको ऐसा———————-।।

सोचा था वह मूरत है, पवित्र प्यार की।
खुशी मेरे जीवन की, साथी मेरी राह की।।
रास नहीं आई उसको, मंजिल मेरी राह की।
बना दिया हमको ऐसा———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
1 Like · 159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मोह मोह के चाव में
मोह मोह के चाव में
Harminder Kaur
मजदूर दिवस पर
मजदूर दिवस पर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
gurudeenverma198
बेचैन हम हो रहे
बेचैन हम हो रहे
Basant Bhagawan Roy
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
माँ की चाह
माँ की चाह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*समझो मिट्टी यह जगत, यह संसार असार 【कुंडलिया】*
*समझो मिट्टी यह जगत, यह संसार असार 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नेह का दीपक
नेह का दीपक
Arti Bhadauria
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
3220.*पूर्णिका*
3220.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
■ हाल-बेहाल...
■ हाल-बेहाल...
*Author प्रणय प्रभात*
सत्यं शिवम सुंदरम!!
सत्यं शिवम सुंदरम!!
ओनिका सेतिया 'अनु '
" काले सफेद की कहानी "
Dr Meenu Poonia
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
पानी में हीं चाँद बुला
पानी में हीं चाँद बुला
Shweta Soni
Wishing power and expectation
Wishing power and expectation
Ankita Patel
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
पत्र गया जीमेल से,
पत्र गया जीमेल से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
अतिथि देवोभवः
अतिथि देवोभवः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
Loading...