Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2017 · 1 min read

बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।

विश्रामालय रेल का कुंच पड़ गया नाम।
गोरों-शासन बाद तक ऋषि को किया प्रणाम।।
ऋषि को किया प्रणाम कुंच स्टेशन भाया।
संशोधित पुनि नाम कुंच से कोंच बनाया।
कह ‘नायक’ कविराय कोंच अब भी देवालय।
बना कुंच से कोंच रेल-पथ विश्रामालय ।।
……………………………………………………
.

👉ऋषिवर क्रौंच सु नाम पर, प्रजा कहे श्री कुंच।
चहुँ दिश बोध-विमान-द्विज, ना कोई भी टुंच।।

👉उक्त दोनों पंक्तिया “क्रौंच सु ऋषि-आलोक” खंडकाव्य/शोधपरक ग्रंथ की पंक्तियाँ है, जो “क्रौंच सु ऋषि आलोक” कृति/शोधपरक ग्रंथ के पृष्ठ संख्या 20 से ली गईं हैं।
उक्त दोनों पंक्तियाँ यह सिद्ध करतीं हैं कि “क्रौंच ऋषि” को आम-जन “कुंच” नाम से भी जानता पहचानता एवं पुकारता था।

👉कोंच नगर “क्रौंच ऋषि” की तपोभूमि है जो भारत देश के राज्य उत्तर प्रदेश के जिला-जालौन में स्थित होने के साथ-साथ तहसील मुख्यालय ,नगर पालिका परिषद है। कोंच नगर में रेलवे-स्टेशन भी है।

पं बृजेश कुमार नायक
विद्यासागर
क्रौंच सु ऋषि-आलोक खंडकाव्य/शोधपरक ग्रंथ ,जागा हिंदुस्तान चाहिए काव्य संग्रह एवं पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं कृतियों के प्रणेता।

1 Like · 1 Comment · 1705 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*जिंदगी भर धन जुटाया, बाद में किसको मिला (हिंदी गजल)*
*जिंदगी भर धन जुटाया, बाद में किसको मिला (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
****शीतल प्रभा****
****शीतल प्रभा****
Kavita Chouhan
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
17== 🌸धोखा 🌸
17== 🌸धोखा 🌸
Mahima shukla
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
कवि रमेशराज
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कामयाब लोग,
कामयाब लोग,
नेताम आर सी
मानवता
मानवता
Rahul Singh
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
गीत
गीत
Shiva Awasthi
गाय
गाय
Vedha Singh
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
गहन शोध से पता चला है कि
गहन शोध से पता चला है कि
*Author प्रणय प्रभात*
मैं उड़ना चाहती हूं
मैं उड़ना चाहती हूं
Shekhar Chandra Mitra
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
3035.*पूर्णिका*
3035.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पाँच सितारा, डूबा तारा
पाँच सितारा, डूबा तारा
Manju Singh
Loading...