Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2016 · 1 min read

बनावट

बनावट की है दुनिया,यहां बस तमाशा कीजिए
अच्छे इंसा नही तो क्या, अदाकारी अच्छी कीजिए

लगाकर सजीला मुखौटा,बदरंग चेहरा छुपा लीजिए
सच से नही सरोकार,जितना जी चाहे झूठ बोल लीजिए

उजला हुआ मन तो लानते मिलेगीं
मन काला रखकर पुरस्कार पा लीजिए

प्रेम ,ममता ,मित्रता अनमोल है मगर
अपने स्वार्थ की खातिर इनको छोड दीजिए

रिश्तो की है परवाह ,उनका मान भी बहुत है
पर अपने सुखो की खातिर दूजो को दुख दीजिए

कह रही है प्रीति हकीकत ये जहां की
जो यकीं न आये तो खुद जांच लीजिए

Language: Hindi
536 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
अनिल कुमार
हमरा सपना के भारत
हमरा सपना के भारत
Shekhar Chandra Mitra
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
बेटियाँ
बेटियाँ
Mamta Rani
*स्वतंत्रता आंदोलन में रामपुर निवासियों की भूमिका*
*स्वतंत्रता आंदोलन में रामपुर निवासियों की भूमिका*
Ravi Prakash
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
Sidhartha Mishra
गुमनाम ज़िन्दगी
गुमनाम ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
हर किसी के पास हो घर
हर किसी के पास हो घर
gurudeenverma198
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
पीर पराई
पीर पराई
Satish Srijan
ओ परबत  के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी
AJAY AMITABH SUMAN
अहद
अहद
Pratibha Kumari
विडम्बना
विडम्बना
Shaily
■ मुक़ाबला जारी...।।
■ मुक़ाबला जारी...।।
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-515💐
💐प्रेम कौतुक-515💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
अपने प्रयासों को
अपने प्रयासों को
Dr fauzia Naseem shad
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
कविता
कविता
Shiva Awasthi
वह नही समझ पायेगा कि
वह नही समझ पायेगा कि
Dheerja Sharma
मैं तो महज बुनियाद हूँ
मैं तो महज बुनियाद हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...