Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

“ बधाई आ शुभकामना “

“ बधाई आ शुभकामना “
==================
एहि पावन शुभअवसर पर, दय छी हम शुभकामना
एहिना सब दिन आहाँ बिहुसैत रहू करू बाधा -विघ्न क सामना
नहि बिसरू किनको एहि जग मे, प्रेमक सबदिन उपजय भावना
नाम कमाऊ जग मे सब दिन ,अछि हमरलोकनिक इ कामना !
@ परिमल

356 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्षणिकाएँ. .
क्षणिकाएँ. .
sushil sarna
■ थोथे नेता, थोथे वादे।।
■ थोथे नेता, थोथे वादे।।
*Author प्रणय प्रभात*
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
Mahendra Narayan
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
Rakesh Panwar
अपनी मिट्टी की खुशबू
अपनी मिट्टी की खुशबू
Namita Gupta
आस्था
आस्था
Neeraj Agarwal
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सन्देश"
Dr. Kishan tandon kranti
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कचनार
कचनार
Mohan Pandey
अपनी क़ीमत
अपनी क़ीमत
Dr fauzia Naseem shad
चित्रकार
चित्रकार
Ritu Asooja
मन की इच्छा मन पहचाने
मन की इच्छा मन पहचाने
Suryakant Dwivedi
डबूले वाली चाय
डबूले वाली चाय
Shyam Sundar Subramanian
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
गोरी का झुमका
गोरी का झुमका
Surinder blackpen
माँ के लिए बेटियां
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
पहाड़ों की हंसी ठिठोली
Shankar N aanjna
9. पोंथी का मद
9. पोंथी का मद
Rajeev Dutta
साल को बीतता देखना।
साल को बीतता देखना।
Brijpal Singh
* संस्कार *
* संस्कार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
नव वर्ष गीत
नव वर्ष गीत
Dr. Rajeev Jain
Loading...