Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2022 · 1 min read

बदल गया मेरा मासूम दिल

आज हम अपने बचपन वाले,
जिन्दगी से मिलने चले थे।
ढूँढ रहे थे बचपन वाले
मासूम सा दिल को,
लेकिन आज मेरे जिदंगी के आईने
वे दिख नही रहे थे।
था मुझसे मिलता-जुलता ,
मेरा हमशक्ल चेहरा।
पर दिल उसके पहले जैसा
मासूम दिख नही रहे थे।
वह मासूम सा दिल,
जो बचपन में हुआ करता था।
वक्त के थपेड़ों से लड़ते-लड़ते,
आज पत्थर का बन गये थे।
आज लगा रही थी मैं,
मासूम दिल को आवाज।
लेकिन आज वह आवाज,
पत्थर बने दिल से टकराकर,
ज्यों का त्यों मेरे पास लौट आ रहे थे।
हम कहाँ से कहाँ बदल गए ,
जिदंगी आज हमें इस बात का
एहसास करा रही थी।
हमने क्या खोया क्या पाया,
आज हमें समझा रही थी।
पत्थर पाने की चाह में
मैंने सोने सा दिल खो दिया,
आज जिदंगी इस बात का
मुझे एहसास करा रही थी।
खुशी के पल बहुत पीछे छुट गए,
आज जिदंगी हमें गम देकर,
जवानी की नई सीख सीखा रही थी।

Language: Hindi
5 Likes · 6 Comments · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
dream of change in society
dream of change in society
Desert fellow Rakesh
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
ruby kumari
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
पूर्वार्थ
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
बिंदी
बिंदी
Satish Srijan
मतदान
मतदान
Anil chobisa
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
ग़लत समय पर
ग़लत समय पर
*Author प्रणय प्रभात*
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
कृष्ण मलिक अम्बाला
*चली आई मधुर रस-धार, प्रिय सावन में मतवाली (गीतिका)*
*चली आई मधुर रस-धार, प्रिय सावन में मतवाली (गीतिका)*
Ravi Prakash
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
काग़ज़ के पुतले बने,
काग़ज़ के पुतले बने,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
दुष्यन्त 'बाबा'
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
Shweta Soni
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
Kanchan Alok Malu
सूरज आएगा Suraj Aayega
सूरज आएगा Suraj Aayega
Mohan Pandey
2688.*पूर्णिका*
2688.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"जीवन की अंतिम यात्रा"
Pushpraj Anant
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
Loading...