Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2022 · 1 min read

बदल गए

बदल गए

फिर आए हम
तेरे शहर में
पुराने मकान
पुराने प्रतिष्ठान
पुरानी दुकान
ये थे सब
जाने-पहचाने-से
कुछ प्लाट
तेरी तरह बदल गए
जो मकान हो गए।

-विनोद सिल्ला

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*तुम अगर साथ होते*
*तुम अगर साथ होते*
Shashi kala vyas
अपने आसपास
अपने आसपास "काम करने" वालों की कद्र करना सीखें...
Radhakishan R. Mundhra
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
■ सनातन सत्य...
■ सनातन सत्य...
*Author प्रणय प्रभात*
निर्जन पथ का राही
निर्जन पथ का राही
नवीन जोशी 'नवल'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
Phool gufran
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
रमणीय प्रेयसी
रमणीय प्रेयसी
Pratibha Pandey
ख्वाबों में मिलना
ख्वाबों में मिलना
Surinder blackpen
श्रृंगार
श्रृंगार
Neelam Sharma
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
3292.*पूर्णिका*
3292.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-318💐
💐प्रेम कौतुक-318💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तीजनबाई
तीजनबाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
आ ख़्वाब बन के आजा
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
*फँसे मँझधार में नौका, प्रभो अवतार बन जाना 【हिंदी गजल/ गीतिक
*फँसे मँझधार में नौका, प्रभो अवतार बन जाना 【हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
*मधु मालती*
*मधु मालती*
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
*हम विफल लोग है*
*हम विफल लोग है*
पूर्वार्थ
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
छठ पूजा
छठ पूजा
Damini Narayan Singh
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
मोबाइल महिमा
मोबाइल महिमा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कवि दीपक बवेजा
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
स्वार्थ से परे !!
स्वार्थ से परे !!
Seema gupta,Alwar
Loading...