Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

“बदलते भारत की तस्वीर”

“बदलते भारत की तस्वीर”
००००००००००००००००

निज भारत की , सुनो दास्तान;
ये छुए, नित्य ही नई आसमान;
सर उठा , हम ही आगे चल रहे;
देख , सारे दुश्मन हाथ मल रहे;
चाहे कोई , कितना विकल रहे;
स्वदेशी जन,खुशी से मचल रहे;
पुरानी भूल सुधर रही ,अब कई;
फिर से,सच्ची इतिहास बन रही;
सबको,सच्ची ज्ञान मिलेगी अब;
देश को नईपहचान मिलेगी अब;
विश्व, हिंदुस्तान के आगे झुकेगा;
आत्मनिर्भर, ‘भारत’ अब बनेगा;
गद्दारों को अब पहचाना जा रहा;
भारत,विश्वपटल पे अब आ रहा;
मानवता बनेगी, निज देशी पूंजी;
समरसता दिखेगी , यहीं सतरंगी;
हर घर,भाईचारे से आबाद होगा;
जाति धर्म पर नहीं, विवाद होगा;
उच्चशिक्षा लेंगी,हर बच्ची देश में;
विवाहित होंगी , अब इक्कीस में;
सीमारेखा पर, डटे हैं वीर-जवान;
पूरा देश करे अब,उनका सम्मान;
हर क्षेत्र में देश खींचे, नई लकीर;
यही है, बदलते भारत की तस्वीर।
*************************

स्वरचित सह मौलिक;
……✍️पंकज ‘कर्ण’
………….कटिहार।।

Language: Hindi
312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कलमबाज
कलमबाज
Mangilal 713
होता अगर पैसा पास हमारे
होता अगर पैसा पास हमारे
gurudeenverma198
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
कविता
कविता
Rambali Mishra
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
या इलाही फ़ैसला कर दे….
या इलाही फ़ैसला कर दे….
parvez khan
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आज अचानक आये थे
आज अचानक आये थे
Jitendra kumar
"विषधर"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त नहीं है
वक्त नहीं है
VINOD CHAUHAN
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
$ग़ज़ल
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
*करता है मस्तिष्क ही, जग में सारे काम (कुंडलिया)*
*करता है मस्तिष्क ही, जग में सारे काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
पूर्वार्थ
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
Ajay Kumar Vimal
Hajipur
Hajipur
Hajipur
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
गुलाब
गुलाब
Satyaveer vaishnav
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
Loading...