Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2023 · 1 min read

बदलती फितरत

हर लहज़ा, हर फितरत और हर क़िरदार देखा है
भरी दुनिया में लोंगो का बदलता व्यवहार देखा है!!
लोग मिलते हैं आपसे आपकी हैसियत देखकर!
रिश्तों का हमनें भी एक मीनाऐसा बाज़ार देखा है!!
इस जमाने में सबकी सब पूछते हैं हैसियत देखकर
हमने भी यहाँ पर एक मतलबी संसार देखा है!!
तुम समझते हो कि हम कुछ नही जानते ही नहीं!
हमनें करीबी लोगों का बदलता व्यवहार देखा है!!
खुशी अपनो की अब किसी से बर्दाश्त होती नहीं!
मगर जख्मों पर नमक छिड़कते भरे दरबार देखा है!!
सभी जानते हैं हकीकत ये कि खाली हाथ जायेंगे!
मगर दौलत की हवस में खुद को बर्बाद होते देखा है!!

8 Likes · 2 Comments · 264 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कविताओं से यह मत पूछो*
*कविताओं से यह मत पूछो*
Dr. Priya Gupta
दिलरुबा जे रहे
दिलरुबा जे रहे
Shekhar Chandra Mitra
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
प्रेम की गहराई
प्रेम की गहराई
Dr Mukesh 'Aseemit'
कल की फिक्र में
कल की फिक्र में
shabina. Naaz
मेरा प्रेम पत्र
मेरा प्रेम पत्र
डी. के. निवातिया
मेरी किस्मत
मेरी किस्मत
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
2866.*पूर्णिका*
2866.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिल के इक कोने में तुम्हारी यादों को महफूज रक्खा है।
दिल के इक कोने में तुम्हारी यादों को महफूज रक्खा है।
शिव प्रताप लोधी
दो शब्द
दो शब्द
Dr fauzia Naseem shad
दिल की भाषा
दिल की भाषा
Ram Krishan Rastogi
The destination
The destination
Bidyadhar Mantry
मैं तो महज इतिहास हूँ
मैं तो महज इतिहास हूँ
VINOD CHAUHAN
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
abhishek rajak
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
"नया दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
Sandeep Pande
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Tarun Singh Pawar
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...