Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2022 · 1 min read

बदलती परम्परा

साल दर साल बितता
जा रहा है।
हम नये भेष -भुषा,
नये आचार-विचार में,
अपने आप को ढालते
जा रहे हैं।

पुरानी सारी परम्पराओं
को त्यागते हुए,
अपने ही संस्कारों पर
प्रश्न चिन्ह लगाते हुए ,
हम आगे बढ़ते जा रहे हैं!

पर क्या हम अपने मन में
सकून पा रहे हैं ,
जब आगे सब कुछ अच्छा है!
फिर हम सब क्यों,
पीछे मुड़कर देख रहे!

आज जब बच्चों के पास
हमारे लिए समय नहीं है,
और न उनके नजरो में
संस्कारों का कोई मोल ,
तो हम इस बात के लिए रो रहे हैं।

पर एक मिनट रूक कर
कभी सोचिये,
अपने मन के अंदर झाँक कर
क्या हमने अपने बच्चों के
बचपन में, संस्कार भरा था !
जो आज हम खोज रहे।

एक बार फिर से
समझने की जरूरत है
कबीर दास की वह वाणी को
जिसमें उन्होंने कहा था ,
बोया पेड़ बबूल का ‘
तो आम’ कहा से खाय

इसलिए अगर हम सब
पीछे मुड़ना नही चाहते हैं,
तो अपने संस्कारो मे
डाल कर जान,
अपने से बेहतर अपने
भविष्य को बनाईये।

~अनामिका

Language: Hindi
4 Likes · 240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मैं आज़ाद हो गया"
Lohit Tamta
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Sakshi Tripathi
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
Ravi Prakash
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
डर
डर
Neeraj Agarwal
दुआ के हाथ
दुआ के हाथ
Shekhar Chandra Mitra
*** बिंदु और परिधि....!!! ***
*** बिंदु और परिधि....!!! ***
VEDANTA PATEL
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
"वक़्त के साथ सब बदलते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
कन्यादान
कन्यादान
Mukesh Kumar Sonkar
कहते हैं संसार में ,
कहते हैं संसार में ,
sushil sarna
क्या कहें
क्या कहें
Dr fauzia Naseem shad
सुप्रभातं
सुप्रभातं
Dr Archana Gupta
शायरी
शायरी
goutam shaw
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
वीर गाथा है वीरों की ✍️
वीर गाथा है वीरों की ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िन्दगी का रंग उतरे
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी हवाई जहाज
जिंदगी हवाई जहाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
Pain changes people
Pain changes people
Vandana maurya
23/16.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/16.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-180💐
💐प्रेम कौतुक-180💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
Mahendra Narayan
मेरी कहानी मेरी जुबानी
मेरी कहानी मेरी जुबानी
Vandna Thakur
Loading...