Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

बता तुम ही सांवरिया मेरे,

बता तुम ही सांवरिया मेरे,
किससे और किस पे जताउ,
नाराज़गी अपनी,
ज़ख्म दुनिया ने दिए पर,
तुम भी कहां पीछे थे,
अब बताओ कान्हा मेरे,
क्या खुद पे क्रोध करु,
या,
अपने नसीब पे

559 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
कजरी (वर्षा-गीत)
कजरी (वर्षा-गीत)
Shekhar Chandra Mitra
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
The Huge Mountain!
The Huge Mountain!
Buddha Prakash
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
दोहे ( किसान के )
दोहे ( किसान के )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"तापमान"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मन मर्जी के गीत हैं,
मन मर्जी के गीत हैं,
sushil sarna
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
3220.*पूर्णिका*
3220.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम्मीर देव चौहान
हम्मीर देव चौहान
Ajay Shekhavat
*मन की पीड़ा मत कहो, जाकर हर घर-द्वार (कुंडलिया)*
*मन की पीड़ा मत कहो, जाकर हर घर-द्वार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आज बाजार बन्द है
आज बाजार बन्द है
gurudeenverma198
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
होली है ....
होली है ....
Kshma Urmila
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
Shweta Soni
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
संतोष
संतोष
Manju Singh
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
शेखर सिंह
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
आर.एस. 'प्रीतम'
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
Loading...