Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2016 · 1 min read

बताओ तो जरा, अब मैं किधर जाऊँ!

गजल

बताओ तो जरा , मैं अब किधर जाऊँ।
खुदा का घर जिधर भी हो उधर जाऊँ।

ग़मों की चादरें तो ओढ़े बैठा हूँ,
यकीं रख्खो , न ऐसा हूँ की मर जाऊँ।

बुला लो सब रकीबो को जनाजे में,
कहीं ऐसा न हो दिल से उतर जाऊँ।

अगर मजबूत हूँ मैं हौसलों से तो,
दुआ करना कि मैं थोडा बिखर जाऊँ।

मुझे अब जाने से क्यों रोकते हो तुम,
तुम्ही ने तो कसम दी है कि घर जाऊँ।

दिलो में आग है ये बात बस है क्या,
कहो तो बर्फ को भी ठंडा कर जाऊँ।

ख़ुशी होगी बहुँत , ये जानता हूँ मैं,
शुभम् के जैसे गर बेमौत मर जाऊँ।

220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नादां दिल
नादां दिल
Pratibha Kumari
श्री राम अयोध्या आए है
श्री राम अयोध्या आए है
जगदीश लववंशी
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
धरती करें पुकार
धरती करें पुकार
नूरफातिमा खातून नूरी
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
Kishore Nigam
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
डी. के. निवातिया
नयी हैं कोंपले
नयी हैं कोंपले
surenderpal vaidya
अंगदान
अंगदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
Manisha Manjari
2730.*पूर्णिका*
2730.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
*शुभ्रा मिश्रा जी : मेरी पहली प्रशंसक*
*शुभ्रा मिश्रा जी : मेरी पहली प्रशंसक*
Ravi Prakash
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
■ नहले पे दहला...
■ नहले पे दहला...
*Author प्रणय प्रभात*
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
चाहत है बहुत उनसे कहने में डर लगता हैं
Jitendra Chhonkar
गीत गा रहा फागुन
गीत गा रहा फागुन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नेता (Leader)
नेता (Leader)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बेटी
बेटी
Dr Archana Gupta
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
ruby kumari
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-250💐
💐प्रेम कौतुक-250💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Tu Mainu pyaar de
Tu Mainu pyaar de
Swami Ganganiya
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
Teena Godhia
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
पूर्वार्थ
जीना सीख लिया
जीना सीख लिया
Anju ( Ojhal )
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...