Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2018 · 1 min read

बडा कारसाज होता है भगवान

कृति सुंदर है ईश्वर की
मानव भी उसकी संतान ।
जबतक आस्था रहे धर्म पर,
नहीं निराश होता इंसान ।।
सब अच्छा करता है ईश्वर,
यही शब्द आस्था महान ।।
परम् पिता है श्रेष्ठ सबल
कारसाज होता भगवान ।।
विन्ध्य प्रकाश मिश्र विप्र

Language: Hindi
2 Likes · 745 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उल्लास
उल्लास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बुंदेली दोहा - सुड़ी
बुंदेली दोहा - सुड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
Anand Kumar
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
Monika Verma
ऊंट है नाम मेरा
ऊंट है नाम मेरा
Satish Srijan
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
हर रोज याद आऊं,
हर रोज याद आऊं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कहना तो बहुत कुछ है
कहना तो बहुत कुछ है
पूर्वार्थ
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पतझड़ से बसंत तक
पतझड़ से बसंत तक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
खुद से जंग जीतना है ।
खुद से जंग जीतना है ।
Ashwini sharma
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
★महाराणा प्रताप★
★महाराणा प्रताप★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
Sunil Maheshwari
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
Dr MusafiR BaithA
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
The_dk_poetry
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
Sarfaraz Ahmed Aasee
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Kumar lalit
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
कुछ कहती है, सुन जरा....!
कुछ कहती है, सुन जरा....!
VEDANTA PATEL
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
Loading...