Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 8, 2016 · 1 min read

बड़े बिहन्ने दाई बोलय उठ दहिजार के नाती !

बड़े बिहन्ने दाई बोलय उठ दहिजार के नाती !
पढ़लिख लाला अफसर बनजा बाधिले मूड़े गाती !!

मूंदके आँखी पन्ना पलटी कक्का किक्की गाई !
झूठ मूठ का ओठर कइके छानी दूध मलाई !!

मारदिहिस खरके अम्मा ता निकली आबय आंती !
बड़े बिहन्ने दाई बोलय उठ दहिजार के नाती !!

घरके पहिलउठी लड़िका हम कनिया कनिया बागी !
जार दिहिस सब पोथी पात्रा कब ई मरी अभागी !!

खाय लिहिस हो या लिड़िका ता बनिगा देखा हाथी !
बड़े बिहन्ने दाई बोलय उठ दहिजार के नाती !!

बाप रहाँ परदेश मा भइलो रोउना खूब रोबाई !
मठभवना से चुप्पे चुप्पे नेउना खूब चोराई !!

अम्मा हम तोरय ता आहन काहे फाटय छाती !
बड़े बिहन्ने दाई बोलय उठ दहिजार के नाती !!

मुन्ना लाला हीरा कहिके विद्यालय पहुचाबय !
लड़िका के करतूत देखीके रोबत रोबत आबय !!

मास्टर अन्दर मीठ मीठ हा बहिरे अहिमक घाती !
बड़े बिहन्ने दाई बोलय उठ दहिजार के नाती !!

ऐरानव का खुइती कइके लड़िकउनेन का मारी !
बात बात मा बढ़िया बढ़िया देई सबका गारी !

हमरे मारा घर मा एकव बचय दिया ना बाती !
बड़े बिहन्ने दाई बोलय उठ दहिजार के नाती !!

जेतना कुकरम किहन अबय तक ओखर फल हम पायन !
मौलिक कविता लिख के दादा अपना तक पहुचायन !!

दिलकेर कविता दिलवालो के दिल में सदा है भाती !
सचमा बड़े बिहन्ने दाई बोलय उठ दहिजार के नाती !!

मौलिक कवि – आशीष तिवारी जुगनू
08871887126 09200573071

1 Comment · 527 Views
You may also like:
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
पिता
Mamta Rani
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
झूला सजा दो
Buddha Prakash
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
*"पिता"*
Shashi kala vyas
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
विजय कुमार 'विजय'
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Shiva Gouri tiwari
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...