Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2023 · 1 min read

बड़ा भोला बड़ा सज्जन हूँ दीवाना मगर ऐसा

बड़ा भोला बड़ा सज्जन हूँ दीवाना मगर ऐसा
ग़मों को चीरकर मैं छीन हर मुस्क़ान लेता हूँ/6

आर.एस.’प्रीतम’

1 Like · 382 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
आर्य समाज, धमोरा (जिला रामपुर)
आर्य समाज, धमोरा (जिला रामपुर)
Ravi Prakash
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
Tarun Singh Pawar
💐प्रेम कौतुक-511💐
💐प्रेम कौतुक-511💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
कुन का महल
कुन का महल
Satish Srijan
आम आदमी की दास्ताँ
आम आदमी की दास्ताँ
Dr. Man Mohan Krishna
हल
हल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
Sunil Suman
सजल...छंद शैलजा
सजल...छंद शैलजा
डॉ.सीमा अग्रवाल
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
Maa pe likhne wale bhi hai
Maa pe likhne wale bhi hai
Ankita Patel
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
!! हे उमां सुनो !!
!! हे उमां सुनो !!
Chunnu Lal Gupta
जिस नारी ने जन्म दिया
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD CHAUHAN
■ ये हैं ठेकेदार
■ ये हैं ठेकेदार
*Author प्रणय प्रभात*
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
3063.*पूर्णिका*
3063.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
हंसें और हंसाएँ
हंसें और हंसाएँ
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दूसरी दुनिया का कोई
दूसरी दुनिया का कोई
Dr fauzia Naseem shad
"वे लिखते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
आओ कृष्णा !
आओ कृष्णा !
Om Prakash Nautiyal
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
मतदान करो और देश गढ़ों!
मतदान करो और देश गढ़ों!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
SATPAL CHAUHAN
Loading...