Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

बचपन

💐💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐💐

मैंने बचपन जी लिया , फिर से उनके साथ ।
बच्चों में बच्चा बना , लेकर कंदुक हाथ
लेकर कंदुक हाथ , खेल सतोलिया खेला
नरम हाथ का वार , पीठ अपनी पे झेला
कह भूधर कविराय,मिल गए मन को डैने
इक अरसे के बाद ,जी लिया बचपन मैंने ।।

भवानी सिंह ‘भूधर’
बड़नगर , जयपुर

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लोग तो मुझे अच्छे दिनों का राजा कहते हैं,
लोग तो मुझे अच्छे दिनों का राजा कहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
अब थोड़ा हिसाब चेंज है,अब इमोशनल साइड  वाला कोई हिसाब नही है
अब थोड़ा हिसाब चेंज है,अब इमोशनल साइड वाला कोई हिसाब नही है
पूर्वार्थ
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*
*"माँ वसुंधरा"*
Shashi kala vyas
आसुओं की भी कुछ अहमियत होती तो मैं इन्हें टपकने क्यों देता ।
आसुओं की भी कुछ अहमियत होती तो मैं इन्हें टपकने क्यों देता ।
Lokesh Sharma
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
Rj Anand Prajapati
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
3171.*पूर्णिका*
3171.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमरत्व
अमरत्व
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
प्रीतम के दोहे
प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
आत्मस्वरुप
आत्मस्वरुप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
Keshav kishor Kumar
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"विचारणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
🙅लघुकथा/दम्भ🙅
🙅लघुकथा/दम्भ🙅
*प्रणय प्रभात*
कान में रखना
कान में रखना
Kanchan verma
बहुत खुश था
बहुत खुश था
VINOD CHAUHAN
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
अनिल कुमार
रक्षा है उस मूल्य की,
रक्षा है उस मूल्य की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
शेखर सिंह
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्यार और नफ़रत
प्यार और नफ़रत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेरी आंखों की बेदर्दी यूं मंजूर नहीं..!
तेरी आंखों की बेदर्दी यूं मंजूर नहीं..!
SPK Sachin Lodhi
बुंदेली हास्य मुकरियां
बुंदेली हास्य मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...