Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

बचपन

मेरा भी एक बचपन था,
छोटा था मैं अल्हड़पन था,,
मैं भी एक छोटा लड़का था,
मेरा भी एक बचपन था।

कुछ सपने थे जो भूल गया हूं,
कुछ यादें हैं जो ताजी हैं,,
कुछ अपने थे जो छोड़ गए,
पहले मैं भी हंसता था।

चला गया वह बचपन मेरा,
चली गई अब नटखट बातें,,
रही नहीं कागज की कश्ती,
अब रहे नहीं अरमान मेरे।
मेरा भी एक बचपन था,
छोटा था मैं अल्हड़पन था।।

आता था अक्सर पास मेरे,
बचपन का एक मित्र मेरा,,
गलती करता था अक्सर में,
सहता था वार वो मित्र मेरा।

चला गया वह बचपन मेरा,
वापस लौट ना आएगा,,
मेरा भी एक बचपन था,
छोटा था मैं अल्हड़पन था।।

~विवेक शाश्वत ✍️

107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
"वचन देती हूँ"
Ekta chitrangini
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
माया का रोग (व्यंग्य)
माया का रोग (व्यंग्य)
नवीन जोशी 'नवल'
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
गर्भपात
गर्भपात
Bodhisatva kastooriya
नदियां
नदियां
manjula chauhan
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
Suryakant Dwivedi
खामोश किताबें
खामोश किताबें
Madhu Shah
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
वृक्ष पुकार
वृक्ष पुकार
संजय कुमार संजू
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
मुकद्दर तेरा मेरा एक जैसा क्यों लगता है
मुकद्दर तेरा मेरा एक जैसा क्यों लगता है
VINOD CHAUHAN
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
बहुत टूट के बरसा है,
बहुत टूट के बरसा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"किनारे से"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
कवि रमेशराज
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
Taj Mohammad
2867.*पूर्णिका*
2867.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आओ करें हम अर्चन वंदन वीरों के बलिदान को
आओ करें हम अर्चन वंदन वीरों के बलिदान को
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...