Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 2 min read

बचपन — फिर से ???

ये हर दिन की मेहनत
ये टेंशन ये ज़हमत
मुझे क्यों बड़ा कर दिया मेरे राम
नही है संभलते ये जीवन के काम।

प्रभु सुन ले मेरी करुण ये पुकार
बना फिर से बच्चा, कर दे उपकार
वो बेफिक्र बचपन, वो अल्हड़ लड़कपन
तू सुन ले पुकार , तू सुन ले पुकार।

सुबह मुझको मीठी सी निंदिया थी आई
तभी माँ का स्वर वो दिया यूं सुनाई।
चलो आँख खोलो, ये सुबह है आई
जाना है शाला, है करनी पढ़ाई।

उठी चौंक कर , माँ यहाँ कैसे आई?
भला चाहती क्यों करूँ मैं पढ़ाई।
ज़मीन पर जो चाहा, कदम रखना भाई
पैरों से निकली ज़मीन मेरे भाई।

सुन ली थी ईश्वर ने मेरी पुकार,
लौटाया था बचपन फिर एक बार
खुशी से मैं फूली नहीं थी समाई,
माँ फिर से मेरे पास आई
मुझे डाँट बोली, जाओ नहाओ
नहा कर के आओ, फिर कुछ खाओ।
नहाया, फिर खाया, फिर बस्ता उठाया
उफ्फ कितना भारी ? ये बस्ता है या अलमारी ?
क्या कर रही हूँ मैं , वेट लिफ्टिंग की तैयारी?

कक्षा में सखियों से करनी थी बातें
जब भी मैं बोलूँ , अध्यापिका डांटें
पढाई भी करना नहीं था आसान
नन्ही सी जान, उस पर इतने काम|
कक्षा में पूरा हुआ जब न काम
खेल के पीरियड का काम हुआ तमाम |

घर में जो आई तो मम्मी ने डाँटा
टिफिन क्यों न खाया? सवाल यह दागा|
बहाना मेरा कोई माँ को न भाया
बोरिंग सा खाना , वही मैंने खाया|
मिला था स्कूल से बहुत सारा काम
करते-करते हुआ दिन तमाम |

दिल चाहता था कि सखियाँ बुलाऊँ
नाचूँ , मैं गाऊँ, महफिल जमाऊँ
मगर याद आया कि कल है इम्तहान
गणित वो विषय है ले लेता है जान |

सोशल स्टडी का है project बनाना
साइंस में बीजों को घर पर उगाना
हिन्दी की टीचर को कविता सुनाना
नेशनल डे के लिए झंडा सजाना |

नन्ही सी जान और इतने सारे काम
बच्चों का जीवन नहीं है आसान
अभी तो गिनाए थे एक दिन के काम
यूं ही गर रहे तो बस बोलो राम !

प्रभु फिर से सुन ले मेरी अब पुकार
मुझे अपनी पहली अवस्था से प्यार
वो टेंशन , वो मेहनत सभी है स्वीकार
पढाई से मुझको बचा ले करतार |

मंजु सिंह गुप्ता

1 Like · 69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
किसे फर्क पड़ता है
किसे फर्क पड़ता है
Sangeeta Beniwal
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
'क्या कहता है दिल'
'क्या कहता है दिल'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
🌸अनसुनी 🌸
🌸अनसुनी 🌸
Mahima shukla
दूर कहीं जब मीत पुकारे
दूर कहीं जब मीत पुकारे
Mahesh Tiwari 'Ayan'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*सरकारी कार्यक्रम का पास (हास्य व्यंग्य)*
*सरकारी कार्यक्रम का पास (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
नहीं मैं -गजल
नहीं मैं -गजल
Dr Mukesh 'Aseemit'
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
तुम - दीपक नीलपदम्
तुम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Kumud Srivastava
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
प्रभु भक्ति में सदा डूबे रहिए
प्रभु भक्ति में सदा डूबे रहिए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
" टैगोर "
सुनीलानंद महंत
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
*प्रणय प्रभात*
प्यासा के राम
प्यासा के राम
Vijay kumar Pandey
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
surenderpal vaidya
ज़िंदगी सौंप दी है यूं हमने तेरे हवाले,
ज़िंदगी सौंप दी है यूं हमने तेरे हवाले,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गाएं
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मन का जादू
मन का जादू
Otteri Selvakumar
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD CHAUHAN
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत का पैगाम
मोहब्बत का पैगाम
Ritu Asooja
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
Loading...