Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

बचपन अपना अपना

खांची में गोबर के कुछ छोत लिए हम सो कर उठते थे।
फिसलन भरे रास्तों से ही तो हम अपने खेत पहुंचते थे।।
भोजन के खातिर केवल खेत और खेत की गुड़ाई थी।
मेढ़ बांधना, खेत चिखुराना और फसल की बुवाई थी।।
बण्डी जांघिया वस्त्र हमारा, पांव सदा नंगा रहता था।
गाय चराना, घास छीलना, फिर भी मैं चंगा रहता था।।
कंचे, चीयां, चिक्का, कबड्डी ही तो खेल हुआ करते थे।
छोटा बाबा बड़ा है नाती, रिश्ते भी बेमेल हुआ करते थे।।
होली दीवाली बड़े त्योहार थे, तो धूम मचाई जाती थी।
गोबर कीचड़ से होली, गुड़ से दिवाली मनाई जाती थी।।
नाग पंचमी कुश्ती लड़कर, आल्हा सुनकर ही मनाते थे।
शिवरात्रि में मेला, और दशहरे में रामलीला दिखाते थे।।
चलते चलते चलो बताएं, अपने स्कूल और पढ़ाई की।
तख्ती घोंटना, टाट बिछाना, वा सतीर्थों संग लड़ाई की।।
अक्षर ज्ञान और गिनती से, दिन शुरू हुआ करता था।
गुरु छड़ी और पहाड़े से, दिन का अंत हुआ करता था।।
चने की झाड़, गन्ना, बेर, मूंगफली ही तो मुखभंजन था।
टांग मारना, दौड़ लगाना, चिढ़ाना ही तो मनोरंजन था।।
लाड़, प्यार, धन, वैभव सब बस किस किस्सों में होती थी।
दुस्वारी संघर्ष गरीबी गांव के बचपन के हिस्सों में होती थी।
बहुत पुरानी नहीं बात यह, ये स्तिथि सन नब्बे से पहले की थी।
उन बच्चों ने सब बदला, अब ऐसी नहीं बात जो पहले सी थी।

जय हिंद

Language: Hindi
1 Like · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*** अहसास...!!! ***
*** अहसास...!!! ***
VEDANTA PATEL
"राज़-ए-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड
Sandeep Pande
जिनकी खातिर ठगा और को,
जिनकी खातिर ठगा और को,
डॉ.सीमा अग्रवाल
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मां जैसा ज्ञान देते
मां जैसा ज्ञान देते
Harminder Kaur
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Beyond The Flaws
Beyond The Flaws
Vedha Singh
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
Vivek Pandey
आपत्तियाँ फिर लग गयीं (हास्य-व्यंग्य )
आपत्तियाँ फिर लग गयीं (हास्य-व्यंग्य )
Ravi Prakash
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
उल्फत का दीप
उल्फत का दीप
SHAMA PARVEEN
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
कविता तुम से
कविता तुम से
Awadhesh Singh
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
Rj Anand Prajapati
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
Ranjeet kumar patre
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
Anamika Tiwari 'annpurna '
प्रेम
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
बदनसीब डायरी
बदनसीब डायरी
Dr. Kishan tandon kranti
कोई ख़्वाब है
कोई ख़्वाब है
Dr fauzia Naseem shad
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
पूर्वार्थ
कोरा संदेश
कोरा संदेश
Manisha Manjari
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
दोहे
दोहे
अनिल कुमार निश्छल
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
@The electant mother
@The electant mother
Ms.Ankit Halke jha
Loading...