Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2016 · 1 min read

बचपन अच्छा था

बचपन अच्छा था, मालामाल थे
अब तो भरी जेब में भी फकीरी है
खरीद ना पाएं समय खुद के लिए
किस काम की ऐसी अमीरी है

खुश थे, लगती थी जो कामयाबी हमें
लग गई कब अपनी ही बोली पता ना चला
खुशी खरीदने में औरों की
खुद खर्च हो गए कब पता ना चला

खर्च हुए तो सोचा दोस्तों

जब इतनी ही खुदगर्ज है जिंदगी
तो दूसरों के लिए मर मर के जीना
क्या जरूरी है?

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 2 Comments · 636 Views
You may also like:
बग़ावत
Shyam Sundar Subramanian
कबीर की शायरी
Shekhar Chandra Mitra
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
कवित्त
Varun Singh Gautam
HAPPY BIRTHDAY PRAMOD TRIPATHI SIR
★ IPS KAMAL THAKUR ★
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
प्यार
Swami Ganganiya
एउटा मधेशी ठिटो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
आखिरी शब्द
Pooja Singh
आज किस्सा हुआ तमाम है।
Taj Mohammad
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
भारतीय रेल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फेरे
लक्ष्मी सिंह
सबके मन मे राम हो
Kavita Chouhan
* नियम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मैं कैसे
Ram Krishan Rastogi
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पैसा बहुत कुछ है लेकिन सब कुछ नहीं
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
"योग करो"
Ajit Kumar "Karn"
*हमें कर्तव्य के पथ पर बढ़ाती कृष्ण की गीता (हिंदी...
Ravi Prakash
स्वप्न पखेरू
Saraswati Bajpai
"आधुनिक काल के महानतम् गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन्"
Pravesh Shinde
महारानी एलिजाबेथ द्वितीय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
कैसे मुझे गवारा हो
Seema 'Tu hai na'
✍️✍️कश्मकश✍️✍️
'अशांत' शेखर
Loading...