Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

बगावत की आग

फूंक न डाले सिस्टम को
जो आग मेरी ग़ज़ल में है
मानवता का हर क़ातिल
अब भी किसी महल में है…
(१)
पता नहीं इतनी-सी बात
समझ इन्हें कब आएगी
औरत की जगह मर्द के
पैरों में नहीं, बगल में है…
(२)
ऐसे ही नहीं इतनी सुर्ख़ी
आई इसकी पंखुड़ियों में
हमारे पूरे झील का ख़ून
आज इस एक कंवल में है…
(३)
मुहब्बत के कारोबार में
अब उतना फ़ायदा कहां
जितना ज़्यादा मुनाफा
नफ़रत की फ़सल में है…
(४)
पुरानी पीढ़ियों ने हमको
बुरी तरह मायूस किया
थोड़ी-बहुत उम्मीद बची
अब अगली नसल में है…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#इंकलाबी #शायर #स्त्रीविमर्श
#FeministPoetry #बगावत
#गीतकार #कवि #हल्लाबोल
#विद्रोही #नारीवाद #क्रांतिकारी
#lyricist #lyrics #bollywood

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 518 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य तत्व है जीवन का खोज
सत्य तत्व है जीवन का खोज
Buddha Prakash
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
सौ सदियाँ
सौ सदियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
***
***
sushil sarna
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
Aarti sirsat
"बुलबुला"
Dr. Kishan tandon kranti
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
*सत्पथ पर सबको चलने की, दिशा बतातीं अम्मा जी🍃🍃🍃 (श्रीमती उषा
*सत्पथ पर सबको चलने की, दिशा बतातीं अम्मा जी🍃🍃🍃 (श्रीमती उषा
Ravi Prakash
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
मिली जिस काल आजादी, हुआ दिल चाक भारत का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
Khaimsingh Saini
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कीमत बढ़ानी है
कीमत बढ़ानी है
Roopali Sharma
Bhagwan sabki sunte hai...
Bhagwan sabki sunte hai...
Vandana maurya
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
इश्क का इंसाफ़।
इश्क का इंसाफ़।
Taj Mohammad
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
Kanchan Khanna
जिसका हम
जिसका हम
Dr fauzia Naseem shad
"फासले उम्र के" ‌‌
Chunnu Lal Gupta
💐अज्ञात के प्रति-15💐
💐अज्ञात के प्रति-15💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"नवसंवत्सर सबको शुभ हो..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...