Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

” बंदिशें ज़ेल की “

समय को सामने से निकलता
देख तु, हाथ मलेगा
पश्चाताप के अग्नि में जलेगा
अपने आप से रूठ जायेगा
हृदय जब टूट जायेगा

जब कोई अनहोनी सी
खबर आयेगी
समय कीमत बतायेगी
बच्चों की याद आयेगी
पलकें भीग जायेंगी

फिर भी तेरी बात/मनुहार सुनी नही जायेगी
बंदिशें ज़ेल की एहसास करायेंगी कि
तूने तो गलती कर दी —————

जब कोई त्यौहार/उत्सव आयेगा
ख़ुद को धिक्कारेगा
आत्मग्लानि से भर जायेगा
तु ख़ुद को पराधीन देख
सिहर जायेगा —

अपनी बेबसी पर
सर टकरायेगा
तेरा मन हार जायेगा
गला रूंध जायेगा
तन्हाई आज़मायेगी
घर की याद आयेगी

फिर भी तेरी बात/मनुहार सुनी नही जायेगी
बंदिशें ज़ेल की एहसास करायेंगी
तूने तो गलती कर दी —————–

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)

1 Like · 77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
💐प्रेम कौतुक-157💐
💐प्रेम कौतुक-157💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"यादों के बस्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
आज की प्रस्तुति: भाग 5
आज की प्रस्तुति: भाग 5
Rajeev Dutta
वार्तालाप
वार्तालाप
Pratibha Pandey
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जनता  जाने  झूठ  है, नेता  की  हर बात ।
जनता जाने झूठ है, नेता की हर बात ।
sushil sarna
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
अतीत के “टाइम मशीन” में बैठ
अतीत के “टाइम मशीन” में बैठ
Atul "Krishn"
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
Neeraj Agarwal
Don’t wait for that “special day”, every single day is speci
Don’t wait for that “special day”, every single day is speci
पूर्वार्थ
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
हो समर्पित जीत तुमको
हो समर्पित जीत तुमको
DEVESH KUMAR PANDEY
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
Anand Kumar
याद तो हैं ना.…...
याद तो हैं ना.…...
Dr Manju Saini
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
Shivam Sharma
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
कवि दीपक बवेजा
जबसे उनके हाथ पीले हो गये
जबसे उनके हाथ पीले हो गये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
Loading...