Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

बंदर एवं भालू

बंदर एवं भालू

उछल-कूद कर बंदर आया,
घूम-घाम कर भालू।
बोले सब्जी-मंडी चलकर,
ले लें थोड़े आलू।

मण्डी में झगड़े के कारण,
छूटी एक दुनालू।
पूँछ पकड़कर बंदर भागा,
हाथ हिलाकर भालू।

– शिव मोहन यादव

Language: Hindi
564 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
मुक्तक
मुक्तक
Yogmaya Sharma
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
3156.*पूर्णिका*
3156.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"Multi Personality Disorder"
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मदर्स डे
मदर्स डे
Satish Srijan
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
Jitendra Chhonkar
ऐसे रूठे हमसे कि कभी फिर मुड़कर भी नहीं देखा,
ऐसे रूठे हमसे कि कभी फिर मुड़कर भी नहीं देखा,
Kanchan verma
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कसौटी
कसौटी
Sanjay ' शून्य'
आगे हमेशा बढ़ें हम
आगे हमेशा बढ़ें हम
surenderpal vaidya
जो गर्मी शीत वर्षा में भी सातों दिन कमाता था।
जो गर्मी शीत वर्षा में भी सातों दिन कमाता था।
सत्य कुमार प्रेमी
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
Dr fauzia Naseem shad
उदासी से भरे हैं दिन, कटें करवट बदल रातें।
उदासी से भरे हैं दिन, कटें करवट बदल रातें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुस्कानों की बागानों में
मुस्कानों की बागानों में
sushil sarna
" ऊँट "
Dr. Kishan tandon kranti
If.. I Will Become Careless,
If.. I Will Become Careless,
Ravi Betulwala
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
Sunil Maheshwari
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ओझल मनुआ मोय
ओझल मनुआ मोय
श्रीहर्ष आचार्य
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
Mohan Pandey
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक " जिंदगी के मोड़ पर " : एक अध्ययन
Ravi Prakash
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...