Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2016 · 1 min read

फेसबुक की दुनिया

कितनी अजब है
फेसबुक की दुनिया
बहुत से अनजान लोग मिलते हैं
और जुड़ जाता है एक अनोखा बंधन
पनपते हैं अनजान से अनाम रिश्ते
एक होता है लाइक बटन
रिश्तों की शुरुआत का बटन
जो धीरे धीरे कमेंट में बदलता है
और यहीं से शुरू होता है
अनाम रिश्तों का नामकरण
और शेयर तक जाता है
पता ही नहीं चलता
कब चैट बॉक्स में चला आता है
खूबसूरत से रिश्तों का एहसास
आभासी दुनिया के ये रिश्ते
अपनों का सा एहसास देते हैं
हर ख़ुशी और गम शेयर करते हैं
हमारी हर उपलब्धि पर खुश होते हैं
हर नाकामी में हौंसला देते हैं
कितनी खुशनुमा है
फेसबुक की दुनिया
कितना अच्छा लगता है
जब मिल जाता है
कोई बिछड़ा यार अपना
कितनी ख़ुशी मिलती है
दिख जाता जब कोई चेहरा
जिसके संग खेले बचपन में
अजीब रोमांच सा भर जाता है
जब मिलता है प्राइमरी का दोस्त
बांछे ही खिल जाती हैं
जब मिल जाता है
बचपन का मासूम सा प्यार
वो पहला पहला आकर्षण
यूँ ही प्रोफाइल देखते देखते
अगर दिख जाती है
एक सूरत प्यारी सी
जिसको देखने को तरसते थे
और कभी कह ही न पाये
अपने दिल की बात

सच में अनोखी है ये दुनिया
खूबसूरत है फेसबुक की दुनिया

“सन्दीप कुमार”

Language: Hindi
1 Like · 7 Comments · 850 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बचपन में थे सवा शेर जो
बचपन में थे सवा शेर जो
VINOD CHAUHAN
2241.💥सबकुछ खतम 💥
2241.💥सबकुछ खतम 💥
Dr.Khedu Bharti
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
ज़िंदगी भी समझ में
ज़िंदगी भी समझ में
Dr fauzia Naseem shad
*आया फागुन माह (कुंडलिया)*
*आया फागुन माह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
"किसी की नज़र ना लगे"
Dr. Kishan tandon kranti
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
प्रतिबद्ध मन
प्रतिबद्ध मन
लक्ष्मी सिंह
ఉగాది
ఉగాది
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
हार स्वीकार कर
हार स्वीकार कर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
*जितना आसान है*
*जितना आसान है*
नेताम आर सी
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
Harminder Kaur
काव्य भावना
काव्य भावना
Shyam Sundar Subramanian
याद तुम्हारी......।
याद तुम्हारी......।
Awadhesh Kumar Singh
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
manjula chauhan
जय माँ कालरात्रि 🙏
जय माँ कालरात्रि 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
दूर किसी वादी में
दूर किसी वादी में
Shekhar Chandra Mitra
कश्ती औऱ जीवन
कश्ती औऱ जीवन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
हूँ   इंसा  एक   मामूली,
हूँ इंसा एक मामूली,
Satish Srijan
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
आर.एस. 'प्रीतम'
सफल हस्ती
सफल हस्ती
Praveen Sain
Loading...