Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2016 · 1 min read

फेसबुक की दुनिया

कितनी अजब है
फेसबुक की दुनिया
बहुत से अनजान लोग मिलते हैं
और जुड़ जाता है एक अनोखा बंधन
पनपते हैं अनजान से अनाम रिश्ते
एक होता है लाइक बटन
रिश्तों की शुरुआत का बटन
जो धीरे धीरे कमेंट में बदलता है
और यहीं से शुरू होता है
अनाम रिश्तों का नामकरण
और शेयर तक जाता है
पता ही नहीं चलता
कब चैट बॉक्स में चला आता है
खूबसूरत से रिश्तों का एहसास
आभासी दुनिया के ये रिश्ते
अपनों का सा एहसास देते हैं
हर ख़ुशी और गम शेयर करते हैं
हमारी हर उपलब्धि पर खुश होते हैं
हर नाकामी में हौंसला देते हैं
कितनी खुशनुमा है
फेसबुक की दुनिया
कितना अच्छा लगता है
जब मिल जाता है
कोई बिछड़ा यार अपना
कितनी ख़ुशी मिलती है
दिख जाता जब कोई चेहरा
जिसके संग खेले बचपन में
अजीब रोमांच सा भर जाता है
जब मिलता है प्राइमरी का दोस्त
बांछे ही खिल जाती हैं
जब मिल जाता है
बचपन का मासूम सा प्यार
वो पहला पहला आकर्षण
यूँ ही प्रोफाइल देखते देखते
अगर दिख जाती है
एक सूरत प्यारी सी
जिसको देखने को तरसते थे
और कभी कह ही न पाये
अपने दिल की बात

सच में अनोखी है ये दुनिया
खूबसूरत है फेसबुक की दुनिया

“सन्दीप कुमार”

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 7 Comments · 525 Views
You may also like:
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पंजाबी गीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Iran Revolution
Shekhar Chandra Mitra
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
बारिश की ये पहली फुहार है
नूरफातिमा खातून नूरी
स्वर्गीय सावन कुमार को समर्पित
RAFI ARUN GAUTAM
“ कोरोना ”
DESH RAJ
भांगड़ा पा ले
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*नमन बच्चों को जो पढ़कर गरीबी में दिखाते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आओ हम पेड़ लगाए, हरियाली के गीत गाए
जगदीश लववंशी
शराफत में इसको मुहब्बत लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
अतीत का अफसोस क्या करना।
पीयूष धामी
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
तिरंगे की ललकार हो
kumar Deepak "Mani"
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
मैं किसान हूँ
Dr.S.P. Gautam
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
संविधान /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिंदगी का एकाकीपन
मनोज कर्ण
हर लम्हा।
Taj Mohammad
बेचने वाले
shabina. Naaz
तकनीकी के अग्रदूत राजीव गांधी का शिक्षा के प्रति दृष्टिकोण
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
ईश्वर की अदालत
Anamika Singh
I hope one day the clouds been gone and the...
Manisha Manjari
भक्ता (#लोकमैथिली_हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...