Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2022 · 1 min read

फेसबुक की दुनिया

बहुत नींद आ रही है
फिर भी सोना नहीं चाहते
दो पल भी फेसबुक से
ओझल होना नहीं चाहते
छूट जायेगा जाने क्या
कुछ भी समझना नहीं चाहते
डिजिटल दुनिया से जाने
वो बाहर क्यों आना नहीं चाहते
डालकर नई नई तस्वीरें अपनी
उसे ही निहारते रहते है वो
फेसबुक पर कितने लाइक मिले
बस यही गिनते रहते है वो
जबसे डाली है झूलने वाली रील उसने
कॉमेंट पढ़ पढ़कर खुश हो रहा है वो
चिंता नहीं है उसको, जीवन का
कितना अनमोल समय खो रहा है वो
अब चमत्कार कैसे हुआ
जो फेसबुक बंद कर दिया
ओह!अब व्हाट्सएप पर
उसको मैसेज जो आ गया।

Language: Hindi
Tag: कविता
8 Likes · 1 Comment · 371 Views
You may also like:
महादेवी वर्मा जी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
बरसो घन घनघोर, प्रीत को दे तू भीगन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
द्रोणाचार्य का डर
Shekhar Chandra Mitra
"हिंदी की दशा"
पंकज कुमार कर्ण
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
'नर्क के द्वार' (कृपाण घनाक्षरी)
Godambari Negi
🌸✴️कोई सवाल तो छोड़ना मेरे लिए✴️🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पथिक मैं तेरे पीछे आता...
मनोज कर्ण
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नफ़रतें करके क्या हुआ हासिल
Dr fauzia Naseem shad
कुछ यादें आज भी जिन्दा है।
Taj Mohammad
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वाणी की देवी वीणापाणी और उनके श्री विगृह का मूक...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
उन माँ बाप को भूला दिया
gurudeenverma198
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह और कोहिनूर हीरा"
Pravesh Shinde
"कारगिल विजय दिवस"
Lohit Tamta
✍️माटी का है मनुष्य✍️
'अशांत' शेखर
पढ़ाई - लिखाई
AMRESH KUMAR VERMA
षडयंत्रों की कमी नहीं है
सूर्यकांत द्विवेदी
एक पल में जीना सीख ले बंदे
Dr.sima
*परम चैतन्य*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
तेरे होने में क्या??
Manoj Kumar
दिल में मोहब्बत हीर से हीरे जैसी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
*निराकार भाव* (घनाक्षरी)
Ravi Prakash
Loading...