Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2023 · 1 min read

फेर रहे हैं आंख

कभी वक्त के माथे पर जो खींच
गए उपलब्धि की बड़ी सी लकीर
अब राजनीतिक ही तय कर रहे
हैं उन सब पहलवानों की तकदीर
दिग्गज नेता कभी उनके सान्निध्य
में आने का करते थे विशेष उल्लेख
आज वही उन सबकी पीड़ाओं को
मान रहे हैं कोई राजनीति विशेष
वक्त की पलटी देखिए कैसे वो
कर रहा पहलवानों से मजाक
कभी जिनकी खुशामद को बेचैन
थे बड़े लोग वो ही फेर रहे हैं आंख
देश के सियासी इतिहास में जुड़ गया
बीते रोज एक बड़ा शर्मनाक अध्याय
ओलंपिक पदक विजेताओं को भी
तंत्र नहीं दे सका समय से सही न्याय

Language: Hindi
215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
Shyam Sundar Subramanian
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
Pakhi Jain
बेटियां बोझ नहीं होती
बेटियां बोझ नहीं होती
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
* प्यार के शब्द *
* प्यार के शब्द *
surenderpal vaidya
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
Sarfaraz Ahmed Aasee
ये तुम्हें क्या हो गया है.......!!!!
ये तुम्हें क्या हो गया है.......!!!!
shabina. Naaz
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
सत्य कुमार प्रेमी
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ध्यान एकत्र
ध्यान एकत्र
शेखर सिंह
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मांँ
मांँ
Diwakar Mahto
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विलीन
विलीन
sushil sarna
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
3123.*पूर्णिका*
3123.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*प्रणय प्रभात*
अरे वो बाप तुम्हें,
अरे वो बाप तुम्हें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुझे खुश देखना चाहता था
तुझे खुश देखना चाहता था
Kumar lalit
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विवाह
विवाह
Shashi Mahajan
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
"असर"
Dr. Kishan tandon kranti
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...