Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

फूल

इक क्यारी में खिल रहे
लाल गुलाबी फूल
आनंद और संतोष की
पहचान हैं।
सुगंध- मधु और
मुसकान का
गान हैं।
खिलते फूल।
अपना दर्द भूल जाते हैं
जब उन फूलों को तोड़ने वाले
फूलों को अपने पास रखकर
असीम सुख पाते हैं।
मतलब और स्वार्थ को
कहां पहचानते हैं।
फूल , तो।
बस देना ही जानते हैं।

डा.पूनम पांडे, अजमेर

Language: Hindi
3 Likes · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
प्रेम निवेश है-2❤️
प्रेम निवेश है-2❤️
Rohit yadav
गीतिका/ग़ज़ल
गीतिका/ग़ज़ल
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"विचित्रे खलु संसारे नास्ति किञ्चिन्निरर्थकम् ।
Mukul Koushik
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
*तुम्हारा साथ जब मिलता है, तो मस्ती के क्या कहने (मुक्तक)*
*तुम्हारा साथ जब मिलता है, तो मस्ती के क्या कहने (मुक्तक)*
Ravi Prakash
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
■ चाची 42प का उस्ताद।
■ चाची 42प का उस्ताद।
*Author प्रणय प्रभात*
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
Surinder blackpen
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह
मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह
ruby kumari
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-169💐
💐प्रेम कौतुक-169💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
कोरोना संक्रमण
कोरोना संक्रमण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
पूर्वार्थ
बिजली कड़कै
बिजली कड़कै
MSW Sunil SainiCENA
"बुराई की जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
आप अपना कुछ कहते रहें ,  आप अपना कुछ लिखते रहें!  कोई पढ़ें य
आप अपना कुछ कहते रहें , आप अपना कुछ लिखते रहें! कोई पढ़ें य
DrLakshman Jha Parimal
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
कहानी संग्रह-अनकही
कहानी संग्रह-अनकही
राकेश चौरसिया
दाता
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
जीवनदायिनी बैनगंगा
जीवनदायिनी बैनगंगा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बुझी राख
बुझी राख
Vindhya Prakash Mishra
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
surenderpal vaidya
मुक्तक
मुक्तक
Er.Navaneet R Shandily
बोगेनविलिया
बोगेनविलिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...