Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

फूल सी तुम हो

फूल सी तुम हो और तुम्हारी दिलकश अदाए!
रूठती हो बारम्बार कि हम ही आपको मनाए!!
हमने तो दुश्मनो से भी, दोस्तो सा प्यार किया!
आपका अजीब फलसफा खुद रूठे औ हसाए!!
आप तो प्यार मे भी उम्र का हिसाब देखते रहे!
हमने तो हर उम्र मे, प्यार का इजहार निभाए !!
प्यार के सुरुर मे इस कदर मुब्तिला रहे है हम!
कि बाध इश्क के तोड उस पार दरिया मे नहाए!!

Language: Hindi
655 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
It's not about you have said anything wrong its about you ha
It's not about you have said anything wrong its about you ha
Nupur Pathak
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाइकु haiku
हाइकु haiku
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आदिवासी कभी छल नहीं करते
आदिवासी कभी छल नहीं करते
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आपकी खुशी
आपकी खुशी
Dr fauzia Naseem shad
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
शुद्ध
शुद्ध
Dr.Priya Soni Khare
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
"महंगाई"
Slok maurya "umang"
*मकर संक्रांति पर्व
*मकर संक्रांति पर्व"*
Shashi kala vyas
माया और ब़ंम्ह
माया और ब़ंम्ह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
ऑंधियों का दौर
ऑंधियों का दौर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
*अध्याय 10*
*अध्याय 10*
Ravi Prakash
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
जलियांवाला बाग,
जलियांवाला बाग,
अनूप अम्बर
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"काल-कोठरी"
Dr. Kishan tandon kranti
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
#गीत /
#गीत /
*Author प्रणय प्रभात*
अबला नारी
अबला नारी
Neeraj Agarwal
Loading...