Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते

फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
कौन कहता है कि इनके अरमाॅ॑ नहीं होते
छुपा लेते हैं ओंश के रूप में ये ऑ॑सू
दर्द दिल के इनके कभी भी बयाॅ॑ नहीं होते-फूल कभी
महकते हैं ये सिर्फ दूसरों की ही खातिर
अपनी खातिर ये कभी परेशां नहीं होते
कहीं ये कांटों पर तो कहीं कीचड़ में उगें
किस्मत पे अपनी ये कभी खफा नहीं होते-फूल कभी
है इन्हें मालूम कुचले जाओगे एक दिन
इसीलिए इनके कभी आशियाॅ॑ नहीं होते
सुबह अगर होते हैं ये पूजा की थाली में
साॅ॑झ ढ़लने पर इनके कहीं निशां नहीं होते-फूल कभी
जिसे भी देखिए वही फूल का है कायल
मगर फिर भी ये किसी की जाॅ॑ नहीं होते
कोई रूठे तो मना लेते हैं फूल देकर हम
ये जोड़ते दिलों को पर दरमियाॅ॑ नहीं होते-फूल कभी
सीख ले जिंदगी जीना अगर कोई इनसे
बस जाते हैं दिल में कभी फ़नां नहीं होते
सुनो ‘V9द’ की भी है फूलों सी ही दास्तां
फूल मेज़बान होते हैं ये मेहमान नहीं होते-फूल कभी

2 Likes · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
आज हालत है कैसी ये संसार की।
आज हालत है कैसी ये संसार की।
सत्य कुमार प्रेमी
शुभ होली
शुभ होली
Dr Archana Gupta
सिर्फ खुशी में आना तुम
सिर्फ खुशी में आना तुम
Jitendra Chhonkar
पिता मेंरे प्राण
पिता मेंरे प्राण
Arti Bhadauria
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
लक्ष्मी सिंह
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
The_dk_poetry
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
Rj Anand Prajapati
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
मैं नारी हूं...!
मैं नारी हूं...!
singh kunwar sarvendra vikram
डूबें अक्सर जो करें,
डूबें अक्सर जो करें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
VINOD CHAUHAN
(दम)
(दम)
महेश कुमार (हरियाणवी)
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
दरख़्त और व्यक्तित्व
दरख़्त और व्यक्तित्व
Dr Parveen Thakur
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
manjula chauhan
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
22, *इन्सान बदल रहा*
22, *इन्सान बदल रहा*
Dr Shweta sood
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
Ankita Patel
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
दोहा
दोहा
Ravi Prakash
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
Phool gufran
श्रम कम होने न देना _
श्रम कम होने न देना _
Rajesh vyas
Loading...