Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

फिसल गए खिलौने

फिसल गए खिलौने

फिसल गए हाथ से, स्वप्न-लोक के खिलौने सारे,
ज्यों फ़िसल जाता है
वर्षा-जल पड़कर रेत पर।
व्यर्थ उभरकर रह गईं
भावनायें कोमल सारी,
होती है व्यर्थ मेहनत,
किसान की जैसे, सूखे बंजर खेत पर।
आस का पुष्प
खिलने को जिस पल हुआ,
मुरझाया उसी पल आखिर,
पलता वो कैसे नैराश्य की ओस पर।
भ्रम ही सही, है ये तो,
बना रहने दो,
एक छवि सलोनी देखूँ,
मैं मन मसोस कर।
फिसल गए हाथ से, स्वप्न-लोक के खिलौने सारे।

(c) @ दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

Language: Hindi
6 Likes · 3 Comments · 759 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
अंसार एटवी
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
पिटूनिया
पिटूनिया
अनिल मिश्र
मैं  नहीं   हो  सका,   आपका  आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
"वरना"
Dr. Kishan tandon kranti
2454.पूर्णिका
2454.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
आती रजनी सुख भरी, इसमें शांति प्रधान(कुंडलिया)
आती रजनी सुख भरी, इसमें शांति प्रधान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
वफ़ा और बेवफाई
वफ़ा और बेवफाई
हिमांशु Kulshrestha
हिम्मत कर लड़,
हिम्मत कर लड़,
पूर्वार्थ
🙏आप सभी को सपरिवार
🙏आप सभी को सपरिवार
Neelam Sharma
महिला दिवस
महिला दिवस
Surinder blackpen
उसे तो आता है
उसे तो आता है
Manju sagar
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
"गर्दिशों ने कहा, गर्दिशों से सुना।
*प्रणय प्रभात*
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कभी कम न हो
कभी कम न हो
Dr fauzia Naseem shad
चिंगारी के गर्भ में,
चिंगारी के गर्भ में,
sushil sarna
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
Ghanshyam Poddar
मन हमेशा एक यात्रा में रहा
मन हमेशा एक यात्रा में रहा
Rituraj shivem verma
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
Loading...