Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 1 min read

फिर जीवन पर धिक्कार मुझे

फिर जीवन पर धिक्कार मुझे

माना की बहुत अंधेरा है,
हर ओर दुखो का डेरा है।
ना ढूंढ तनिक तू इधर उधर
खुशियों का यही बसेरा हैं।।

हाँ भले किनारा नही मिला, पर थाम रही पतवार मुझे,
गर हार गया विपदाओं से, फिर जीवन पर धिक्कार मुझे।।

कब वीर समय से ही हारा है,
कर मेहनत वही किनारा है।
वो तोड रहे है लाख मगर,
अपना तू स्वयं सहारा है।।

हा कष्ट भरी इन रहो से, ना डरना है स्वीकार मुझे,
गर हार गया विपदाओ से, फिर जीवन पर धिक्कार मुझे।।

तू आस हजारो आँखों की,
अनकहे बहुत जज्बातों की।
गर गिर जाए तो उठ जाना,
लडिया सम्मुख है काँटों की।

मेहनत के उसी सहारे से, मिल जाएगा संसार मुझे,
जो हार गया विपदाओ से, फिर जीवन पर धिक्कार मुझे।।

1 Like · 1 Comment · 190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आग हूं... आग ही रहने दो।
आग हूं... आग ही रहने दो।
Anil "Aadarsh"
दोहा
दोहा
sushil sarna
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
Sushil chauhan
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
धरातल की दशा से मुंह मोड़
धरातल की दशा से मुंह मोड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इंसान
इंसान
Vandna thakur
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
रिश्तें मे मानव जीवन
रिश्तें मे मानव जीवन
Anil chobisa
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
ऐसे ना मुझे  छोड़ना
ऐसे ना मुझे छोड़ना
Umender kumar
Dating Affirmations:
Dating Affirmations:
पूर्वार्थ
उर्दू
उर्दू
Surinder blackpen
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
शेखर सिंह
मन चाहे कुछ कहना....!
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
RAKESH RAKESH
* खुशियां मनाएं *
* खुशियां मनाएं *
surenderpal vaidya
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
Suryakant Dwivedi
गुरु चरण
गुरु चरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्वयं का बैरी
स्वयं का बैरी
Dr fauzia Naseem shad
■ समयोचित सलाह
■ समयोचित सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
माली अकेला क्या करे ?,
माली अकेला क्या करे ?,
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
Sanjay ' शून्य'
कटखना कुत्ता( बाल कविता)
कटखना कुत्ता( बाल कविता)
Ravi Prakash
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
Loading...