Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

फिरकापरस्ती

एक पागल तानाशाह ने
गैरत को नीलाम किया!
इंसाफ़ को जख्मी और
सच को लहूलुहान किया!!
ज़ात-धरम के नाम पर
लड़ाकर आम जनता को!
दुनिया भर में इस देश को
बुरी तरह बदनाम किया!!
#दंगा #फसाद #नरसंहार
#riots #हल्ला_बोल #न्याय
#सियासत #जातिवाद #हक
#सांप्रदायिक #जुल्म #justice
#SupremeCourt #सच

Language: Hindi
209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
Raju Gajbhiye
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
Neeraj Agarwal
इस जमाने जंग को,
इस जमाने जंग को,
Dr. Man Mohan Krishna
"हाशिया"
Dr. Kishan tandon kranti
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
हमारा दिल।
हमारा दिल।
Taj Mohammad
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
लड़की किसी को काबिल बना गई तो किसी को कालिख लगा गई।
Rj Anand Prajapati
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
Dr fauzia Naseem shad
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
मै खामोश हूँ ,कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
मै खामोश हूँ ,कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
Neelofar Khan
वो एक संगीत प्रेमी बन गया,
वो एक संगीत प्रेमी बन गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
किसान
किसान
Dinesh Kumar Gangwar
सहज - असहज
सहज - असहज
Juhi Grover
कजरी (वर्षा-गीत)
कजरी (वर्षा-गीत)
Shekhar Chandra Mitra
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
3420⚘ *पूर्णिका* ⚘
3420⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
Ragini Kumari
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
माँ की छाया
माँ की छाया
Arti Bhadauria
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
प्रेमदास वसु सुरेखा
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
शेखर सिंह
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
🙅कही-अनकही🙅
🙅कही-अनकही🙅
*प्रणय प्रभात*
Loading...