Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

फिदरत

🌸🥀🌺🌼🌹🌼🌺🥀
** ” ** “” ** “” ** “” ** ” **
आईना रख सामने
पूछ कुछ सवाल
अपने आप से।
फिदरत बदल जायेगी तेरी
अगर मिल जाये जवाब तुझे
अपने आप से।
आईना रख सामने
आज कर तु कुछ सवाल
अपने आप से।
हे जो सवाल तेरे जहन में
बाहर निकाल उन्हें मन के ख्याल से।
मिला जो उचित जवाब तुझे
तो समझ फिदरत बदल जायेगी तेरी
अपने आप से।
आईना रख सामने
पूछ कुछ सवाल अपने आप से।

🌺🌺🌷🌼🌺🌺🌷🌼🌺🌺
** ** ** ** ** **
🥀Swami Ganganiya🥀

Language: Hindi
1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नजर से मिली नजर....
नजर से मिली नजर....
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
Buddha Prakash
कलरव करते भोर में,
कलरव करते भोर में,
sushil sarna
फिर सुखद संसार होगा...
फिर सुखद संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन में प्यास की
जीवन में प्यास की
Dr fauzia Naseem shad
तमन्ना है तू।
तमन्ना है तू।
Taj Mohammad
मिलन
मिलन
Dr.Priya Soni Khare
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
Babli Jha
खवाब
खवाब
Swami Ganganiya
11. एक उम्र
11. एक उम्र
Rajeev Dutta
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
The_dk_poetry
बेटा राजदुलारा होता है?
बेटा राजदुलारा होता है?
Rekha khichi
उछल कूद खूब करता रहता हूं,
उछल कूद खूब करता रहता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरा दिल
मेरा दिल
SHAMA PARVEEN
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
अच्छी-अच्छी बातें (बाल कविता)
अच्छी-अच्छी बातें (बाल कविता)
Ravi Prakash
3480🌷 *पूर्णिका* 🌷
3480🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी
जिंदगी
Bodhisatva kastooriya
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
माँ की अभिलाषा 🙏
माँ की अभिलाषा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
surenderpal vaidya
बाबुल का आंगन
बाबुल का आंगन
Mukesh Kumar Sonkar
वोट कर!
वोट कर!
Neelam Sharma
Loading...