Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

फितरत

फितरत

आदतें कहाँ कभी बदलती है,
फूल कहाँ महकना छोड़ती है,
अच्छे अच्छाई नहीं छोड़ता है,
कपटी बुराई नहीं छोड़ता है,

कभी-कभी जो बदलते हैं,
उसे बदलना नहीं कहते हैं,
बदलाव तो अंदर से होता है,
ऊपर से तो दिखावा होता है,

नदियां बहना नहीं छोड़ती है,
सागर खारापन नहीं छोड़ता है,
पहाड़ स्थिरता नहीं छोड़ता है,
सूरज प्रकाश नहीं छोड़ता है,

जीव हो या निर्जीव
फितरत किसी का नहीं बदलता है,
उसकी प्रवृत्ति ही आचरण बनता है।

–पूनम झा ‘प्रथमा’
जयपुर, राजस्थान 15-07-2023

Mob-Wats – 9414875654
Email – poonamjha14869@gmail.com

3 Likes · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
Shashi kala vyas
नेता जब से बोलने लगे सच
नेता जब से बोलने लगे सच
Dhirendra Singh
"हालात"
Dr. Kishan tandon kranti
*मदमस्त है मौसम हवा में, फागुनी उत्कर्ष है (मुक्तक)*
*मदमस्त है मौसम हवा में, फागुनी उत्कर्ष है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"काली सोच, काले कृत्य,
*Author प्रणय प्रभात*
// अंधविश्वास //
// अंधविश्वास //
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जिसको दिल में जगह देना मुश्किल बहुत।
जिसको दिल में जगह देना मुश्किल बहुत।
सत्य कुमार प्रेमी
!! मुरली की चाह‌ !!
!! मुरली की चाह‌ !!
Chunnu Lal Gupta
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
कृष्णकांत गुर्जर
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
Ram Krishan Rastogi
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
माँ की करते हम भक्ति,  माँ कि शक्ति अपार
माँ की करते हम भक्ति, माँ कि शक्ति अपार
Anil chobisa
2600.पूर्णिका
2600.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
बस माटी के लिए
बस माटी के लिए
Pratibha Pandey
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
सामाजिक न्याय के प्रश्न
सामाजिक न्याय के प्रश्न
Shekhar Chandra Mitra
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
कुण्डलिया-मणिपुर
कुण्डलिया-मणिपुर
दुष्यन्त 'बाबा'
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
So many of us are currently going through huge energetic shi
So many of us are currently going through huge energetic shi
पूर्वार्थ
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
manjula chauhan
Loading...