Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

फितरत बदल रही

वो एक पल था, जहां मैं था – जहां तू थी
था अच्छा सबकुछ, क्या मन था, क्या मिलन थी
ना अब तू रही – ना अब मै रहा,
अब किसे कहूं मैं गलत – सही
मेरा मौसम बदल रहा, तेरी फितरत बदल रही।

कुछ कहना था
कुछ कहना भी, क्यों अब मुश्किल सा लगता हैं
वो साथ तेरा अब साथ नही, साथी मेरा बस दूरी है
क्या करना है कुछ भी ना पता, बस यादें बदल रही
मेरा मौसम बदल रहा, तेरी फितरत बदल रही।

कोई ना पूछो हाल मेरा,क्या जीना हैं – क्या मरना है
साथी का साथ रहा ना जब, तो क्या अब किसी से कहना हैं
वो रात गई वो बात गई, अब खुद को खुद में ढलना है
कोई आह भरे तो क्या मतलब, मतलब जब मुझसे रहा नही ।
मेरा मौसम बदल रहा, तेरी फितरत बदल रही।

✍️ बसंत भगवान राय
Mob. 8447920230
दरभंगा बिहार

3 Likes · 1 Comment · 531 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
कोहरे के दिन
कोहरे के दिन
Ghanshyam Poddar
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आई बात समझ में...?
■ आई बात समझ में...?
*Author प्रणय प्रभात*
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐Prodigy Love-17💐
💐Prodigy Love-17💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
अमित मिश्र
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पर्यावरण में मचती ये हलचल
पर्यावरण में मचती ये हलचल
Buddha Prakash
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
Dr. Man Mohan Krishna
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
ruby kumari
" जुदाई "
Aarti sirsat
हमको तंहाई का
हमको तंहाई का
Dr fauzia Naseem shad
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
गौरैया दिवस
गौरैया दिवस
Surinder blackpen
युद्ध के विरुद्ध कुंडलिया
युद्ध के विरुद्ध कुंडलिया
Ravi Prakash
"विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी एक ख़्वाब सी
जिंदगी एक ख़्वाब सी
डॉ. शिव लहरी
*
*"ब्रम्हचारिणी माँ"*
Shashi kala vyas
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जो ना होना था
जो ना होना था
shabina. Naaz
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
डीजल पेट्रोल का महत्व
डीजल पेट्रोल का महत्व
Satish Srijan
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
Harminder Kaur
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
*दिल का दर्द*
*दिल का दर्द*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2316.पूर्णिका
2316.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...