Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏

फितरत जग का एक आईना
❤️😺🙊✍️🐯🐀🐴
फितरत का जन-जन में बास
बनती जीव जगत की आस

मन मानस के दिल मंदिर में
उषा निशा मे विचरण करता

चलता व चलाता जग फितरत
विविध मनों के भावो में रह कर

भाव विभोर करता ये फितरत
जनवाणी का आधार है फितरत

जब दहाड़ मारता है फितरत तब
दुश्मन घबरा घुटने टेक देता है

ऋषि मुनि सन्यासी औघड़ बाबा
ब्रह्मचारी योगी कर्मवीर हठयोगी

कर्महीन है अपनी ही फितरत से
गुरु शिष्य नेता अभिनेता भी जग

प्राणों में नव उमंग विद्या देकर
दशा दिशा निर्देशन से नव देश

भारत माता का वीर सपूत को
दिल दिमाग मे बैठ फितरत ही

मान सम्मान अभिमान दिला जग में
एक आईना औरों को छोड़ जाता है

जन जन के मन का ही ये फितरत
फितरत का वेग तीव्र प्रकाश पुंज से

जहां जाता ना रवि वहां फितरत
से ही बन पहुंच जाता मन कवि

निराकार प्रकार सहित कल्पना
आशातीत चंचल मन मौजी एक

फौजी ज्ञानी अभिमानी घमण्डी
करुणा प्रेम प्यार घृणा अवहेलना

कर्मयोग से सिंहासन पर पहुॅचा
मान सम्मान दिलाता है फितरत

छीन सिंहासन जनता बीच भी
अपमानित कर देता ये फितरत

पहचान जन गण मन तन के
फितरत जो कर्महीन से कर्मवीर

बना जगत को एक आईना दिखा
राहगीर का सुगम राह बना कर

सुहाना सफ़र देता ये फितरत ॥

🌿🌿🌷🌷🌷🌿🌿🙏

तारकेश्‍वर प्रसाद तरूण

4 Likes · 288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
*आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)*
*आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपने प्रयासों को
अपने प्रयासों को
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
* सत्य पथ पर *
* सत्य पथ पर *
surenderpal vaidya
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
Rj Anand Prajapati
कैलाश चन्द्र चौहान की यादों की अटारी / मुसाफ़िर बैठा
कैलाश चन्द्र चौहान की यादों की अटारी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चंदा मामा से मिलने गए ,
चंदा मामा से मिलने गए ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
23/71.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/71.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
ग़म ज़दा लोगों से जाके मिलते हैं
ग़म ज़दा लोगों से जाके मिलते हैं
अंसार एटवी
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
दो दिन
दो दिन
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खुद को तलाशना और तराशना
खुद को तलाशना और तराशना
Manoj Mahato
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
Santosh Soni
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*Author प्रणय प्रभात*
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
हुनर से गद्दारी
हुनर से गद्दारी
भरत कुमार सोलंकी
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
Subhash Singhai
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
Akash Yadav
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सजल...छंद शैलजा
सजल...छंद शैलजा
डॉ.सीमा अग्रवाल
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
Dushyant Kumar
मेरे   परीकल्पनाओं   की   परिणाम   हो  तुम
मेरे परीकल्पनाओं की परिणाम हो तुम
पूर्वार्थ
Loading...