Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

फायदे का सौदा

अपने अनुभव से हमने जाना ,
जिंदगी एक अजाब से कम नहीं ।
देती है सिर्फ गम ही गम हरदम ,
खुशी जरा सी भी नहीं ।
मौत को लोग जाने क्यों बुरा कहते है ,
जबकि वो होती जिंदगी सी बेवफा नहीं।
जिंदगी के लाखो दर्द ,और मौत का बस एक ,
बोलो दोस्तों ! फायदे का सौदा है या नहीं ।

Language: Hindi
3 Likes · 852 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिसको भी चाहा तुमने साथी बनाना
जिसको भी चाहा तुमने साथी बनाना
gurudeenverma198
माँ
माँ
Shyam Sundar Subramanian
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
* बताएं किस तरह तुमको *
* बताएं किस तरह तुमको *
surenderpal vaidya
न बीत गई ना बात गई
न बीत गई ना बात गई
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
खिंचता है मन क्यों
खिंचता है मन क्यों
Shalini Mishra Tiwari
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
यारी
यारी
Dr. Mahesh Kumawat
हमें अलग हो जाना चाहिए
हमें अलग हो जाना चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
राहत के दीए
राहत के दीए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रेतीले तपते गर्म रास्ते
रेतीले तपते गर्म रास्ते
Atul "Krishn"
*हमारा संविधान*
*हमारा संविधान*
Dushyant Kumar
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्या ईसा भारत आये थे?
क्या ईसा भारत आये थे?
कवि रमेशराज
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
" देखा है "
Dr. Kishan tandon kranti
शादीशुदा🤵👇
शादीशुदा🤵👇
डॉ० रोहित कौशिक
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
शेखर सिंह
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
आए हैं रामजी
आए हैं रामजी
SURYA PRAKASH SHARMA
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
#नहीं_जानते_हों_तो
#नहीं_जानते_हों_तो
*प्रणय प्रभात*
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*राधेश्याम जी की अंटे वाली लेमन*
*राधेश्याम जी की अंटे वाली लेमन*
Ravi Prakash
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
Loading...