Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2017 · 1 min read

फाग गीत

आओ मिलकर गाएं फाग ।
छेड़ें समरसता का राग । ।

हुए बहुत दिन लड़ते-लड़ते ,
बात-बात पर खूब झगड़ते ।
लेकिन बात बनी न अब तक,
फिर क्यों ? हम झगड़े में पड़ते ।
अगर प्यार से मिल बैठें तो ,
खिल जाएगा जीवन – बाग ।।

बदला लेकर नहीं निकलता ,
किसी समस्या का कोई हल ।
कलुषित हो जाता है जीवन ,
पीड़ित हो जाता है पल-पल ।
रोटी में भी स्वाद न रहता ,
खट्टी लगती मीठी साग ।।

छद्म प्रशंसा , अहंकार में ,
हुआ नर्क ये पूरा जीवन ।
मन सबके उखड़े-उखड़े हैं ,
मिलते रहते हैं केवल तन ।
दफ़्न हुआ संगीत आजकल ,
शोर छेड़ता गंदे राग ।।

आओ मिलकर गाएं फाग ,
छेड़ें समरसता का राग ।।

Language: Hindi
Tag: गीत
3 Likes · 2 Comments · 1645 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Even if you stand
Even if you stand
Dhriti Mishra
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
Ram Krishan Rastogi
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
हिन्दी
हिन्दी
Bodhisatva kastooriya
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
शायर देव मेहरानियां
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
देखिए इतिहास की किताबो मे हमने SALT TAX के बारे मे पढ़ा है,
देखिए इतिहास की किताबो मे हमने SALT TAX के बारे मे पढ़ा है,
शेखर सिंह
"आशा-तृष्णा"
Dr. Kishan tandon kranti
"
*Author प्रणय प्रभात*
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
जय लगन कुमार हैप्पी
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदगी आईने के
ज़िंदगी आईने के
Dr fauzia Naseem shad
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
ruby kumari
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
कुंडलिया
कुंडलिया
दुष्यन्त 'बाबा'
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
पूर्वार्थ
आपके पास धन इसलिए नहीं बढ़ रहा है क्योंकि आपकी व्यावसायिक पक
आपके पास धन इसलिए नहीं बढ़ रहा है क्योंकि आपकी व्यावसायिक पक
Rj Anand Prajapati
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
गांव की गौरी
गांव की गौरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अपना मन
अपना मन
Neeraj Agarwal
2492.पूर्णिका
2492.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चाहत
चाहत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*बड़ मावसयह कह रहा ,बरगद वृक्ष महान ( कुंडलिया )*
*बड़ मावसयह कह रहा ,बरगद वृक्ष महान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
Loading...